रामायण चौपाई – Ramayan Chaupai in Hindi With Meaning & Sanskrit :

रामायण चौपाई – Ramayan Chaupai in Hindi With Meaning & Sanskrit
रामायण चौपाई - Ramayan Chaupai in Hindi With Meaning & Sanskrit

रामायण चौपाई – Ramayan Chaupai in Hindi With Meaning & Sanskrit

  • शोकः शौर्यपकर्षणः ॥
    अर्थ :  शोक मनुष्य के शौर्य को नष्ट कर देता है ।
  • मृदुर्हि परिभूयते ॥
    अर्थ :   मृदु पुरुष का अनादर होता है ।
  • वसेत्सह सपत्नेन क्रुद्धेनाशुविषेण च । न तू मित्रप्रवादेन संवसेच्छत्रु सेविना ॥
    अर्थ : शत्रु और क्रुद्ध महाविषधर सर्प के साथ भले ही रहें, पर ऐसे मनुष्य के साथ कभी न रहे जो ऊपर से तो मित्र कहलाता है, लेकिन भीतर-भीतर शत्रु का हितसाधक हो ।
  • लोक-नीति -न चातिप्रणयः कार्यः कर्त्तव्योप्रणयश्च ते । उभयं हि महान् दोसस्तस्मादन्तरदृग्भव ॥
    अर्थ : मृत्यु-पूर्व बालि ने अपने पुत्र अंगद को यह अन्तिम उपदेश दिया था – तुम किसी से अधिक प्रेम या अधिक वैर न करना, क्योंकि दोनों ही अत्यन्त अनिष्टकारक होते हैं, सदा मध्यम मार्ग का ही अवलम्बन करना ।

.

  • सर्वथा सुकरं मित्रं दुष्करं प्रतिपालनम् ॥
    अर्थ :  मित्रता करना सहज है लेकिन उसको निभाना कठिन है ।
  • अपना-पराया-गुणगान् व परजनः स्वजनो निर्गुणोऽपि वा । निर्गणः स्वजनः श्रेयान् यः परः पर एव सः ॥
    अर्थ :  पराया मनुष्य भले ही गुणवान् हो तथा स्वजन सर्वथा गुणहीन ही क्यों न हो, लेकिन गुणी परजन से गुणहीन स्वजन ही भला होता है । अपना तो अपना है और पराया पराया ही रहता है ।
  • निरुत्साहस्य दीनस्य शोकपर्याकुलात्मनः । सर्वार्था व्यवसीदन्ति व्यसनं चाधिगच्छति

  • अर्थ :  उत्साह हीन, दीन और शोकाकुल मनुष्य के सभी काम बिगड़ जाते हैं , वह घोर विपत्ति में फंस जाता है ।
  • उत्साह-उत्साहो बलवानार्य नास्त्युत्साहात्परं बलम् । सोत्साहस्य हि लोकेषु न किञ्चदपि दुर्लभम् ॥
    अर्थ :  उत्साह बड़ा बलवान होता है; उत्साह से बढ़कर कोई बल नहीं है । उत्साही पुरुष के लिए संसार में कुछ भी दुर्लभ नहीं है ।
  • धर्म-धर्मादर्थः प्रभवति धर्मात्प्रभवते सुखम् । धर्मण लभते सर्वं धर्मप्रसारमिदं जगत् ॥
    अर्थ :  धर्म से ही धन, सुख तथा सब कुछ प्राप्त होता है । इस संसार में धर्म ही सार वस्तु है ।
Related Posts  माँ सरस्वती पर श्लोक - Saraswati Sloka in Sanskrit With Hindi Meaning :

.

Previous माँ सरस्वती पर श्लोक – Saraswati Sloka in Sanskrit With Hindi Meaning :
Next श्री सूक्त अर्थ सहित – Sri Suktam Path in Hindi Meaning With Sanskrit :

One comment

  1. sukhmangal singh

    सुविचार सुन्दर और ग्राह्य ,बहुत -बहुत धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.