दर्द भरी कविता – Sad Poems in Hindi That Make You Cry :

Sad Poems in Hindi That Make You Cry
Sad Poems in Hindi That Make You Cry

दर्द भरी कविता – Sad Poems in Hindi That Make You Cry

  • ” बेवफ़ा वक़्त “
    न तुम्हें अब सोच पाता हूँ,
    न तुम्हें अब लिख पाता हूँ
    तुम्हारी यादें आती तो है,
    पर, एक बुरे लम्हे से टकरा कर लौट जाती है
    ऐसे ही पड़े रहते हैं वीरान कागज,
    कलम भी तेरा नाम लिखने से पहले ही रो देती है.
    स्नेह का सागर सामने तेरे रख दी थी मैंने,
    तुम भींग कर भी, महसूस इसे न कर सके.
    तुम मंजरी सी दिखती थी और मैं बस तुम्हें निहारता रहता था,
    पर तुम आँखों की आवाजों को न कभी सुन सके.
    कभी झूठे तो कभी सच्चे लगते हो तुम,
    आदतों से तो कभी पूरे बच्चे लगते हो तुम.
    पहली बार जब तुम्हें देखा तो तुम बेदाग़ लगे थे,
    हकीकत जब पता चला तो मेरे दिल को बड़े आघात लगे थे.
    फिर भी यकीं मानो प्यार अभी भी तुमसे पहले जैसा है,
    तेरी खता के बाद भी फुर्सत नहीं मिलती तेरी यादों से,
    न जाने ये दिल मेरा कैसा है?
    बस एक बात बता दो फरेब करना कैसे तुमको आ गया??,
    भूल कर हमको कैसे तुमको जीना भा गया??
    – हिमांशु शर्मा “हेमु”
  • मेरे जज्बात
    फूटे हुए मटके में, अब मैं जज्बात भरती हूं,
    भरता नहीं है ये, मैं कोशिश हर बार करती हूं
    घिर गए अब बादल, गहरे काले घने
    इस तेज बारिस में उड़ने को,   नीला आकाश तकती हूं |
    मैं कोशिश हर बार करती हूं
    आधार है अब खुरदरा, स्तम्भ है हिला हुआ,        
    साहसों के ढोल पर, नर्तन हर बार करती हूं,
    मैं कोशिश हर बार करती हूं
    छुई-मुई के पेड़ से, हालात हैं हमारे
    मुश्किलों की छुअन से,
    अब मैं सहमती हूं
    मैं कोशिश हर बार करती हूं
    ‘लेकिन’ भरते- भरते एक दिन,
    इन दरारों को भर ही देंगे
    उड़ जाएँगे बादल, उड़ान भर ही लेंगे
    आधार को समतल, और स्तम्भ को मजबूत करेंगे
    और इस ढोल की थाप को, आनदं से सुनेंगे
    भरते- भरते इन दरारों को, भर ही देंगे |
    – रचना मिश्रा

.