Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

सत्यनारायण व्रत कथा एवं पूजा विधि – Satyanarayan Vrat Katha in Hindi :

Tags : satyanarayan vrat katha hindi satyanarayan katha hindi satyanarayan vrat katha hindi katha vrat katha thursday vrat katha satyanarayan katha satyanarayan katha marathi satyanarayan katha hindi shri satyanarayan katha satyanarayan katha gujarati satyanarayan katha english satyanarayan pooja vidhi satyanarayan katha gujarati satyanarayan puja hindi satyanarayan puja vidhi satyanarayan ki katha shree satyanarayan katha somvar vrat katha hindi shri satyanarayan katha hindi satya narayan ki katha shri satyanarayan vrat katha satyanarayan vrat vidhi satyanarayan pooja marathi ekadashi vrat katha hindi satyanarayan puja vidhi hindi thursday fast katha shivratri vrat katha hindi satyanarayan vrat brihaspati vrat katha hindi monday fast katha satyanarayan bhagwan ki katha pradosh vrat katha hindi sat narayan katha satyanarayan aarti satyanarayan pooja vidhi hindi brihaspativar vrat katha hindi monday vrat katha satyanarayan katha gujarati text satya katha hindi thursday vrat katha hindi shri satyanarayan vrat katha hindi satyanarayan bhagwan satyanarayan pooja vidhi marathi puranmashi vrat katha bhakti katha hindi dashama vrat katha hindi satyanarayan katha hindi mp3 free download sawan vrat katha hindi satyanarayan vrat vidhi hindi satyanarayan puja vidhi marathi satyanarayan katha vidhi hindi shree satyanarayan vrat katha satyanarayan katha vidhi thursday fast katha hindi purnima vrat katha and vidhi hindi satyanarayan katha hindi text guruvar vrat katha hindi satyanarayana pooja satyanarayan katha puja vidhi hindi nepali satya katha book puranmashi vrat katha hindi satyanarayan aarti hindi sat narayan katha hindi shree satyanarayan katha hindi satyanarayan katha gujarati book satya narayan vrat katha purnima vrat katha satyanarayan katha sindhi mahashivratri vrat katha hindi satyanarayan bhagwan ki katha hindi ganesh vrat katha hindi trayodashi vrat katha hindi satyanarayan vrat katha hindi text purnima vrat vidhi hindi satyanarayan katha gujarati audio satyanarayan katha marathi purnima vrat katha hindi satyanarayana pooja katha mangalvar vrat katha hindi satyanarayan puja marathi satya narayan ki katha hindi satyanarayan bhagwan katha bhagwan ki katha satyanarayan pooja satyanarayana puja katha satyanarayan puja satyanarayan vrat katha gujarati satya narayan ki katha full hindi vrat katha hindi satyanarayan katha book hindi gangaur vrat katha hindi satyanarayan katha full hindi satyanarayan katha english shri satyanarayan vrat katha hindi audio shri satyanarayan pooja vidhi hindi shree satyanarayan katha gujarati satyanarayan pooja katha hindi satyanarayan ki katha gujarati satyanarayana vrata katha hindu vrat katha book hindi satya katha marathi satyanarayan pooja marathi audio satyanarayana vratha katha shanivar vrat katha hindi satyanarayan katha song satyanarayan pooja hindi satyanarayan puja gujarati satyanarayan pooja katha satyanarayan vrat katha hindi katha satyanarayan satyanarayan bhagwan ki aarti shri satyanarayan vrat katha gujarati satyanarayan ki katha hindi satyanarayan pooja vidhi gujarati satyanarayan satyanarayan ji ki katha puranmashi vrat vidhi hindi satyanarayan song krishna katha hindi satyanarayan katha audio satyanarayan puja mantra hindi gujarati satyanarayan katha satya katha hindi me puranmashi katha hindi satyanarayan katha hindi audio puranmashi katha satyanarayan mantra hindi satyanarayan katha book satyanarayan vrat katha puja vidhi satyanarayan katha hindi mp3 satyanarayan vrat katha english satyanarayan katha marathi audio satyanarayan katha aarti parivartini ekadashi vrat katha hindi shri satyanarayan aarti satyanarayan katha telugu shree satyanarayan katha marathi hindu vrat katha hindi satyanarayana vrata katha telugu shri satyanarayan katha english friday vrat katha hindi satyanarayana pooja vidhi shree satyanarayan pooja satyanarayan vrat katha audio hindi satyanarayana swamy katha hindi bhagwan katha satyanarayan katha gujarati mp3 katha satyanarayan ki pooranmashi vrat katha hindi shri satyanarayan pooja vidhi marathi satyanarayan vrat katha audio shri satyanarayan vrat katha hindi mp3 free download shani vrat katha hindi gangaur pooja katha hindi katha satyanarayan bhagwan 16 monday vrat katha satyanarayan katha hindi pdf puranmashi fast vidhi hindi puranmashi ki katha hindi pooranmashi katha lakshmi pooja katha hindi purnima katha hindi satyanarayan katha bengali satyanarayan thal kuber vrat katha hindi satyanarayana pooja procedure marathi lakshmi vrat katha hindi satyanarayana vratha katha telugu marathi satyanarayan katha pooja karne ki vidhi hindi satyavinayak vrat katha shukrawar vrat katha hindi satyanarayan katha pdf bhagwan ki katha hindi puranmashi ka vrat poornima vrat katha satyanarayan aarti marathi satyanarayan katha mp3 margashirsha guruvar vrat katha hindi satyanarayana vratam audio bhagwan katha hindi siddhivinayak vrat katha hindi how to perform satyanarayan puja at home satyanarayan katha audio hindi satyanarayana katha savitri vrat katha hindi vrat katha hindi tuesday vrat katha hindi monday vrat hindi vrat katha shukravar vrat katha hindi satyanarayan vrat katha mp3 shree satya datta vrat katha god katha hindi satyanarayan vrat katha hindi audio all vrat katha hindi satyanarayan ji satyanarayana pooja benefits sai vrat katha hindi sri satyanarayan katha satyanarayan katha marathi mp3 bhagwan satyanarayan satyanarayan fast vishnu bhagwan ki katha padma ekadashi vrat katha hindi vishnu bhagwan ki katha hindi satyanarayan bhagwan ki katha mp3 satyanarayana pooja story english tuesday vrat katha shri satyanarayan vrat katha mp3 free download vrat katha book satyanarayan katha hindi pdf free download satyanarayana pooja procedure satyanarayan katha by anup jalota satya katha hindi pdf free download brihaspativar vrat udyapan vidhi hindi satyanarayan katha hindi mp3 satya katha hindi pdf hindu vrat katha satyanarayan pooja audio satyanarayan katha hindi pdf satyanarayan puja samagri list hindi satyanarayan katha gujarati pdf budhwar vrat katha hindi satyanarayana pooja audio vrat katha book hindi satyanarayan katha gujarati pdf satyanarayan vrat katha hindi pdf puranmashi vrat katha hindi pdf shri satyanarayan katha hindi free download satya kahaniya hindi satyanarayan katha marathi pdf satyanarayana story pradosh vrat katha hindi satyanarayana katha english satyanarayan puja vidhi hindi pdf satyanarayan katha download satyanarayan katha marathi pdf free download satyanarayan aarti marathi text shri satyanarayan vrat katha mp3 satyanarayan katha mp3 song satyanarayan aarti mp3 puja katha satyanarayan katha sanskrit puranmashi vrat katha punjabi satyanarayan katha hindi download satyanarayan pooja songs satyanarayan puja vidhi marathi pdf ekadashi vrat katha hindi pdf satyanarayan katha mp3 download satyanarayan puja samagri hindi satyanarayan katha hindi audio satyanarayan pooja vidhi marathi pdf satyanarayan katha marathi mp3 satyanarayan mahapooja satyanarayan vrat katha sanskrit kamika ekadashi vrat katha hindi satyanarayan puja benefits satyanarayan katha hindi pdf download satyanarayana katha telugu full satyanarayan katha hindi mp3 free download shri satyanarayan katha audio sunday vrat katha hindi shri satyanarayan satyanarayan katha kannada satyanarayan vrat katha sanskrit pdf shree satyanarayan satyanarayan vrat katha hindi pdf free download satyanarayan puja song narayan puja vidhi satyanarayan katha mp3 marathi satyanarayan katha kannada how to do satyanarayan puja at home hindi satyanarayan katha samagri hindi satyanarayan katha gujarati pdf free download shri satyanarayan katha hindi pdf satyanarayan katha gujarati mp3 free download satyanarayan vrat katha gujarati pdf satyanarayana saraswati vrat katha hindi satyanarayan katha sanskrit pdf download vishnu bhagwan vrat katha download satyanarayan pooja vidhi hindi pdf satyanarayan katha samagri gujarati shri satyanarayan pooja shree satyanarayan katha songs laxmi puja katha hindi satyanarayana pooja story kannada satyanarayan pooja vidhi pdf satyanarayana pooja katha kannada guru purnima vrat katha hindi satyanarayan katha sanskrit pdf satyanarayan vrat katha hindi pdf satyanarayan vrat katha mp3 free download satyanarayan aarti marathi pdf laxmi vrat katha hindi satyanarayana pooja story satyanarayan katha pdf hindi satyanarayan katha puja samagri narayan katha hanuman vrat katha hindi satya katha satyanarayan katha hindi video download satyanarayana pooja story kannada pdf thursday vrat katha hindi pdf download vishnu bhagwan vrat katha shri satyanarayan vrat katha hindi pdf satyanarayan vrat katha hindi mp3 free download vishnu katha hindi sat swami katha download youtube satyanarayan katha satyanarayan katha hindi script pdf pooranmashi vrat katha thursday fast katha hindi pdf satyanarayan katha marathi pdf satyanarayan pooja marathi pdf satyanarayan katha kannada free download satyanarayan katha mp3 free download satyanarayan katha youtube shri satyanarayan katha marathi pdf download satyanarayan katha satyanarayana katha telugu satyanarayan katha pdf hindi satyanarayan pooja marathi songs free download satyanarayan puja pdf satyanarayan katha hindi lyrics satyanarayan katha sanskrit pdf satyanarayan bhagwan ki katha hindi pdf satyanarayan katha sindhi mp3 free download satyanarayan bhagwan image satyanarayan katha mp3 download hindi satyanarayan katha video satyanarayana vratha katha kannada satya kahani hindi satyanarayan vrat katha pdf satyanarayan katha pdf gujarati puranmashi vrat vidhi guruvar vrat katha hindi pdf vishnu bhagwan vrat katha hindi satyanarayana katha hindi satyanarayan katha audio download satyanarayan katha song download satyanarayan puja hindi pdf download satyanarayan katha hindi pdf satyanarayan katha mp3 free download hindi vishnu vrat katha satyanarayan katha gujarati download mangalwar vrat katha hindi satyanarayan dev satyanarayan bhagwan ki katha song download satyanarayan katha audio free download pradosh vrat katha hindi pdf satyanarayan katha hindi audio download satyanarayan katha video download satyanarayan bhagwan photo satyanarayan aarti hindi mp3 free download satyanarayan aarti download vrat katha hindi pdf how many adhyay satyanarayan katha vishnu bhagwan katha satyanarayan aarti marathi free download shri satyanarayan katha mp3 download vishnu vrat katha hindi satyanarayan katha bengali pdf satyanarayan katha at home satyanarayan uttar pooja satyanarayan vrat katha english pdf satyanarayan vrat katha hindi free download download satyanarayan katha hindi satyanarayan vrat katha hindi pdf download shri satyanarayan katha part 1 download satyanarayan puja story satyanarayan pooja mp3 shri satyanarayan katha hindi mp3 shree satyanarayan puja marathi shri satyanarayan vrat katha song download satyanarayan ki katha hindi pdf veervar vrat katha hindi satyanarayan puja yadi satyanarayan katha song free download what is satyanarayan katha shiv pradosh vrat katha hindi satya narayan ki katha mp3 satyanarayan bhagwan ki aarti mp3 satyanarayan aarti mp3 free download shri satyanarayan bhagwan photo vishnu bhagwan katha hindi shiv vrat katha hindi satyanarayan aarti hindi pdf satyanarayan bhagwan ki photo vrat katha pdf vishnu ji ki katha who is satyanarayan bhagwan satyanarayan vrat katha pdf hindi satya narayan ki katha download satyanarayan katha online free download satyanarayan katha satyanarayan bhagwan ki aarti download shri satyanarayan photo satyanarayan bhagwan picture shree satyanarayan katha mp3 satyanarayan song download karwachauth vrat katha hindi download satyanarayan katha hindi mp3 satyanarayan mp3 pavitra ekadashi vrat katha hindi satyanarayan katha free download shri satyanarayan aarti mp3 satyanarayan vrat katha mp3 download shri satyanarayan vrat katha mp3 download sat narayan katha mp3 satyanarayan katha mp3 hindi download satyanarayan vrat katha hindi vishnu puja hindi

Satyanarayan Vrat Katha in Hindi – सत्यनारायण व्रत कथा एवं पूजा विधि
Satyanarayan Vrat Katha in Hindi ,सत्यनारायण व्रत कथा एवं पूजा विधि

  • पूजन सामग्री : केले के 4 खम्भे / पत्ते, चावल, धूप, पुष्प, पानपत्ता, सुपाड़ी, तुलसी पत्ता, फल, प्रसाद, कपूर, रोरी, सत्यनारायण भगवान की फोटो, रुई बत्ती, घी, अगरबत्ती, माचिस, दूब घास, मधु, दूध, दही, आटा, दीपक, सिंदूर, सालू कपड़ा, मौली, जनेऊ, हवन सामग्री, सूखा नारियल, दोना.

  • पहला अध्याय :
    श्रीव्यास जी ने कहा – एक बार नैमिषारण्य तीर्थ में शौनक आदि ऋषियों ने पुराणशास्त्र के वेत्ता श्रीसूत जी महाराज से पूछा – महामुने! किस व्रत अथवा तपस्या से मनोवांछित फल प्राप्त होता है, उसे हम सब सुनना चाहते हैं, आप कहें.
    श्री सूतजी बोले – नारदजी के द्वारा पूछे जाने पर भगवान कमलापति ने उनसे जैसा कहा था, उसे कह रहा हूं, आप लोग सावधान होकर सुनें. एक बार नारदजी लोगों के कल्याण की कामना से पृथ्वी में आये और यहां उन्होंने अपने कर्मफल के अनुसार अनेक योनियों में उत्पन्न सभी प्राणियों को अनेक प्रकार के क्लेश दुख भोगते हुए देखा तथा ‘किस उपाय से इनके दुखों का नाश हो सकता है’, ऐसा मन में विचार करके वे विष्णुलोक गये. वहां चार भुजाओं वाले शंख, चक्र, गदा, पद्म तथा वनमाला से विभूषित शुक्लवर्ण भगवान श्री नारायण का दर्शन कर उन देवाधिदेव की वे स्तुति करने लगे. नारद जी बोले – हे वाणी और मन से परे स्वरूप वाले, अनन्तशक्तिसम्पन्न, आदि-मध्य और अन्त से रहित, निर्गुण और सकल कल्याणमय गुणगणों से सम्पन्न, स्थावर-जंगमात्मक निखिल सृष्टिप्रपंच के कारणभूत तथा भक्तों की पीड़ा नष्ट करने वाले परमात्मन! आपको नमस्कार है. स्तुति सुनने के अनन्तर भगवान श्रीविष्णु जी ने नारद जी से कहा- महाभाग! आप किस प्रयोजन से यहां आये हैं, आपके मन में क्या है? कहिये, वह सब कुछ मैं आपको बताउंगा. नारद जी बोले – भगवन! पृथ्वी में अपने पापकर्मों के द्वारा विभिन्न योनियों में उत्पन्न सभी लोग बहुत प्रकार के क्लेशों से दुखी हो रहे हैं. हे नाथ! किस लघु उपाय से उनके कष्टों का निवारण हो सकेगा, यदि आपकी मेरे ऊपर कृपा हो तो वह सब मैं सुनना चाहता हूं. उसे बतायें. श्री भगवान ने कहा – हे वत्स! संसार के ऊपर अनुग्रह करने की इच्छा से आपने बहुत अच्छी बात पूछी है. जिस व्रत के करने से प्राणी मोह से मुक्त हो जाता है, उसे आपको बताता हूं, सुनें. हे वत्स! स्वर्ग और पृथ्वी में दुर्लभ भगवान सत्यनारायण का एक महान पुण्यप्रद व्रत है. आपके स्नेह के कारण इस समय मैं उसे कह रहा हूं. अच्छी प्रकार विधि-विधान से भगवान सत्यनारायण व्रत करके मनुष्य शीघ्र ही सुख प्राप्त कर परलोक में मोक्ष प्राप्त कर सकता है. भगवान की ऐसी वाणी सनुकर नारद मुनि ने कहा -प्रभो इस व्रत को करने का फल क्या है? इसका विधान क्या है? इस व्रत को किसने किया और इसे कब करना चाहिए? यह सब विस्तारपूर्वक बतलाइये. श्री भगवान ने कहा – यह सत्यनारायण व्रत दुख-शोक आदि का शमन करने वाला, धन-धान्य की वृद्धि करने वाला, सौभाग्य और संतान देने वाला तथा सर्वत्र विजय प्रदान करने वाला है. जिस-किसी भी दिन भक्ति और श्रद्धा से समन्वित होकर मनुष्य ब्राह्मणों और बन्धुबान्धवों के साथ धर्म में तत्पर होकर सायंकाल भगवान सत्यनारायण की पूजा करे. नैवेद्य के रूप में उत्तम कोटि के भोजनीय पदार्थ को सवाया मात्रा में भक्तिपूर्वक अर्पित करना चाहिए. केले के फल, घी, दूध, गेहूं का चूर्ण अथवा गेहूं के चूर्ण के अभाव में साठी चावल का चूर्ण, शक्कर या गुड़ – यह सब भक्ष्य सामग्री सवाया मात्रा में एकत्र कर निवेदित करनी चाहिए. बन्धु-बान्धवों के साथ श्री सत्यनारायण भगवान की कथा सुनकर ब्राह्मणों को दक्षिणा देनी चाहिए. तदनन्तर बन्धु-बान्धवों के साथ ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए. भक्तिपूर्वक प्रसाद ग्रहण करके नृत्य-गीत आदि का आयोजन करना चाहिए. तदनन्तर भगवान सत्यनारायण का स्मरण करते हुए अपने घर जाना चाहिए. ऐसा करने से मनुष्यों की अभिलाषा अवश्य पूर्ण होती है. विशेष रूप से कलियुग में, पृथ्वीलोक में यह सबसे छोटा सा उपाय है.

  • दूसरा अध्याय :
    श्रीसूतजी बोले – हे द्विजों! अब मैं पुनः पूर्वकाल में जिसने इस सत्यनारायण व्रत को किया था, उसे भलीभांति विस्तारपूर्वक कहूंगा. रमणीय काशी नामक नगर में कोई अत्यन्त निर्धन ब्राह्मण रहता था. भूख और प्यास से व्याकुल होकर वह प्रतिदिन पृथ्वी पर भटकता रहता था. ब्राह्मण प्रिय भगवान ने उस दुखी ब्राह्मण को देखकर वृद्ध ब्राह्मण का रूप धारण करके उस द्विज से आदरपूर्वक पूछा – हे विप्र! प्रतिदिन अत्यन्त दुखी होकर तुम किसलिए पृथ्वीपर भ्रमण करते रहते हो. हे द्विजश्रेष्ठ! यह सब बतलाओ, मैं सुनना चाहता हूं. ब्राह्मण बोला – प्रभो! मैं अत्यन्त दरिद्र ब्राह्मण हूं और भिक्षा के लिए ही पृथ्वी पर घूमा करता हूं. यदि मेरी इस दरिद्रता को दूर करने का आप कोई उपाय जानते हों तो कृपापूर्वक बतलाइये. वृद्ध ब्राह्मण बोला – हे ब्राह्मणदेव! सत्यनारायण भगवान् विष्णु अभीष्ट फल को देने वाले हैं. हे विप्र! तुम उनका उत्तम व्रत करो, जिसे करने से मनुष्य सभी दुखों से मुक्त हो जाता है. व्रत के विधान को भी ब्राह्मण से यत्नपूर्वक कहकर वृद्ध ब्राह्मणरूपधारी भगवान् विष्णु वहीं पर अन्तर्धान हो गये. ‘वृद्ध ब्राह्मण ने जैसा कहा है, उस व्रत को अच्छी प्रकार से वैसे ही करूंगा’ – यह सोचते हुए उस ब्राह्मण को रात में नींद नहीं आयी. अगले दिन प्रातःकाल उठकर ‘सत्यनारायण का व्रत करूंगा’ ऐसा संकल्प करके वह ब्राह्मण भिक्षा के लिए चल पड़ा. उस दिन ब्राह्मण को भिक्षा में बहुत सा धन प्राप्त हुआ. उसी धन से उसने बन्धु-बान्धवों के साथ भगवान सत्यनारायण का व्रत किया. इस व्रत के प्रभाव से वह श्रेष्ठ ब्राह्मण सभी दुखों से मुक्त होकर समस्त सम्पत्तियों से सम्पन्न हो गया. उस दिन से लेकर प्रत्येक महीने उसने यह व्रत किया. इस प्रकार भगवान् सत्यनारायण के इस व्रत को करके वह श्रेष्ठ ब्राह्मण सभी पापों से मुक्त हो गया और उसने दुर्लभ मोक्षपद को पाया. हे विप्र! पृथ्वी पर जब भी कोई मनुष्य श्री सत्यनारायण का व्रत करेगा, उसी समय उसके समस्त दुख नष्ट हो जायेंगे. हे ब्राह्मणों! इस प्रकार भगवान नारायण ने महात्मा नारदजी से जो कुछ कहा, मैंने वह सब आप लोगों से कह दिया, आगे अब और क्या कहूं? हे मुने! इस पृथ्वी पर उस ब्राह्मण से सुने हुए इस व्रत को किसने किया? हम वह सब सुनना चाहते हैं, उस व्रत पर हमारी श्रद्धा हो रही है. श्री सूत जी बोले – मुनियों! पृथ्वी पर जिसने यह व्रत किया, उसे आप लोग सुनें. एक बार वह द्विजश्रेष्ठ अपनी धन-सम्पत्ति के अनुसार बन्धु-बान्धवों तथा परिवारजनों के साथ व्रत करने के लिए उद्यत हुआ. इसी बीच एक लकड़हारा वहां आया और लकड़ी बाहर रखकर उस ब्राह्मण के घर गया. प्यास से व्याकुल वह उस ब्राह्मण को व्रत करता हुआ देख प्रणाम करके उससे बोला – प्रभो! आप यह क्या कर रहे हैं, इसके करने से किस फल की प्राप्ति होती है, विस्तारपूर्वक मुझसे कहिये. विप्र ने कहा – यह सत्यनारायण का व्रत है, जो सभी मनोरथों को प्रदान करने वाला है. उसी के प्रभाव से मुझे यह सब महान धन-धान्य आदि प्राप्त हुआ है. जल पीकर तथा प्रसाद ग्रहण करके वह नगर चला गया. सत्यनारायण देव के लिए मन से ऐसा सोचने लगा कि ‘आज लकड़ी बेचने से जो धन प्राप्त होगा, उसी धन से भगवान सत्यनारायण का श्रेष्ठ व्रत करूंगा.’ इस प्रकार मन से चिन्तन करता हुआ लकड़ी को मस्तक पर रख कर उस सुन्दर नगर में गया, जहां धन-सम्पन्न लोग रहते थे. उस दिन उसने लकड़ी का दुगुना मूल्य पाया. इसके बाद प्रसन्न हृदय होकर वह पके हुए केले का फल, शर्करा, घी, दूध और गेहूं का चूर्ण सवाया मात्रा में लेकर अपने घर आया. तत्पश्चात उसने अपने बान्धवों को बुलाकर विधि-विधान से भगवान श्री सत्यनारायण का व्रत किया. उस व्रत के प्रभाव से वह धन-पुत्र से सम्पन्न हो गया और इस लोक में अनेक सुखों का उपभोग कर अन्त में सत्यपुर अर्थात् बैकुण्ठलोक चला गया.

  • तीसरा अध्याय :
    श्री सूतजी बोले – श्रेष्ठ मुनियों! अब मैं पुनः आगे की कथा कहूंगा, आप लोग सुनें. प्राचीन काल में उल्कामुख नाम का एक राजा था. वह जितेन्द्रिय, सत्यवादी तथा अत्यन्त बुद्धिमान था. वह विद्वान राजा प्रतिदिन देवालय जाता और ब्राह्मणों को धन देकर सन्तुष्ट करता था. कमल के समान मुख वाली उसकी धर्मपत्नी शील, विनय एवं सौन्दर्य आदि गुणों से सम्पन्न तथा पतिपरायणा थी. राजा एक दिन अपनी धर्मपत्नी के साथ भद्रशीला नदी के तट पर श्रीसत्यनारायण का व्रत कर रहा था. उसी समय व्यापार के लिए अनेक प्रकार की पुष्कल धनराशि से सम्पन्न एक साधु नाम का बनिया वहां आया. भद्रशीला नदी के तट पर नाव को स्थापित कर वह राजा के समीप गया और राजा को उस व्रत में दीक्षित देखकर विनयपूर्वक पूछने लगा. साधु ने कहा – राजन्! आप भक्तियुक्त चित्त से यह क्या कर रहे हैं? कृपया वह सब बताइये, इस समय मैं सुनना चाहता हूं. राजा बोले – हे साधो! पुत्र आदि की प्राप्ति की कामना से अपने बन्धु-बान्धवों के साथ मैं अतुल तेज सम्पन्न भगवान् विष्णु का व्रत एवं पूजन कर रहा हूं. राजा की बात सुनकर साधु ने आदरपूर्वक कहा – राजन् ! इस विषय में आप मुझे सब कुछ विस्तार से बतलाइये, आपके कथनानुसार मैं व्रत एवं पूजन करूंगा. मुझे भी संतति नहीं है. ‘इससे अवश्य ही संतति प्राप्त होगी.’ ऐसा विचार कर वह व्यापार से निवृत्त हो आनन्दपूर्वक अपने घर आया. उसने अपनी भार्या से संतति प्रदान करने वाले इस सत्यव्रत को विस्तार पूर्वक बताया तथा – ‘जब मुझे संतति प्राप्त होगी तब मैं इस व्रत को करूंगा’ – इस प्रकार उस साधु ने अपनी भार्या लीलावती से कहा. एक दिन उसकी लीलावती नाम की सती-साध्वी भार्या पति के साथ आनन्द चित्त से ऋतुकालीन धर्माचरण में प्रवृत्त हुई और भगवान् श्रीसत्यनारायण की कृपा से उसकी वह भार्या गर्भिणी हुई. दसवें महीने में उससे कन्यारत्न की उत्पत्ति हुई और वह शुक्लपक्ष के चन्द्रम की भांति दिन-प्रतिदिन बढ़ने लगी. उस कन्या का ‘कलावती’ यह नाम रखा गया. इसके बाद एक दिन लीलावती ने अपने स्वामी से मधुर वाणी में कहा – आप पूर्व में संकल्पित श्री सत्यनारायण के व्रत को क्यों नहीं कर रहे हैं? साधु बोला – ‘प्रिये! इसके विवाह के समय व्रत करूंगा.’ इस प्रकार अपनी पत्नी को भली-भांति आश्वस्त कर वह व्यापार करने के लिए नगर की ओर चला गया. इधर कन्या कलावती पिता के घर में बढ़ने लगी. तदनन्तर धर्मज्ञ साधु ने नगर में सखियों के साथ क्रीड़ा करती हुई अपनी कन्या को विवाह योग्य देखकर आपस में मन्त्रणा करके ‘कन्या विवाह के लिए श्रेष्ठ वर का अन्वेषण करो’ – ऐसा दूत से कहकर शीघ्र ही उसे भेज दिया. उसकी आज्ञा प्राप्त करके दूत कांचन नामक नगर में गया और वहां से एक वणिक का पुत्र लेकर आया. उस साधु ने उस वणिक के पुत्र को सुन्दर और गुणों से सम्पन्न देखकर अपनी जाति के लोगों तथा बन्धु-बान्धवों के साथ संतुष्टचित्त हो विधि-विधान से वणिकपुत्र के हाथ में कन्या का दान कर दिया. उस समय वह साधु बनिया दुर्भाग्यवश भगवान् का वह उत्तम व्रत भूल गया. पूर्व संकल्प के अनुसार विवाह के समय में व्रत न करने के कारण भगवान उस पर रुष्ट हो गये. कुछ समय के पश्चात अपने व्यापारकर्म में कुशल वह साधु बनिया काल की प्रेरणा से अपने दामाद के साथ व्यापार करने के लिए समुद्र के समीप स्थित रत्नसारपुर नामक सुन्दर नगर में गया और पअने श्रीसम्पन्न दामाद के साथ वहां व्यापार करने लगा. उसके बाद वे दोों राजा चन्द्रकेतु के रमणीय उस नगर में गये. उसी समय भगवान् श्रीसत्यनारायण ने उसे भ्रष्टप्रतिज्ञ देखकर ‘इसे दारुण, कठिन और महान् दुख प्राप्त होगा’ – यह शाप दे दिया. एक दिन एक चोर राजा चन्द्रकेतु के धन को चुराकर वहीं आया, जहां दोनों वणिक स्थित थे. वह अपने पीछे दौड़ते हुए दूतों को देखकर भयभीतचित्त से धन वहीं छोड़कर शीघ्र ही छिप गया. इसके बाद राजा के दूत वहां आ गये जहां वह साधु वणिक था. वहां राजा के धन को देखकर वे दूत उन दोनों वणिकपुत्रों को बांधकर ले आये और हर्षपूर्वक दौड़ते हुए राजा से बोले – ‘प्रभो! हम दो चोर पकड़ लाए हैं, इन्हें देखकर आप आज्ञा दें’. राजा की आज्ञा से दोनों शीघ्र ही दृढ़तापूर्वक बांधकर बिना विचार किये महान कारागार में डाल दिये गये. भगवान् सत्यदेव की माया से किसी ने उन दोनों की बात नहीं सुनी और राजा चन्द्रकेतु ने उन दोनों का धन भी ले लिया. भगवान के शाप से वणिक के घर में उसकी भार्या भी अत्यन्त दुखित हो गयी और उनके घर में सारा-का-सारा जो धन था, वह चोर ने चुरा लिया. लीलावती शारीरिक तथा मानसिक पीड़ाओं से युक्त, भूख और प्यास से दुखी हो अन्न की चिन्ता से दर-दर भटकने लगी. कलावती कन्या भी भोजन के लिए इधर-उधर प्रतिदिन घूमने लगी. एक दिन भूख से पीडि़त कलावती एक ब्राह्मण के घर गयी. वहां जाकर उसने श्रीसत्यनारायण के व्रत-पूजन को देखा. वहां बैठकर उसने कथा सुनी और वरदान मांगा. उसके बाद प्रसाद ग्रहण करके वह कुछ रात होने पर घर गयी. माता ने कलावती कन्या से प्रेमपूर्वक पूछा – पुत्री ! रात में तू कहां रुक गयी थी? तुम्हारे मन में क्या है? कलावती कन्या ने तुरन्त माता से कहा – मां! मैंने एक ब्राह्मण के घर में मनोरथ प्रदान करने वाला व्रत देखा है. कन्या की उस बात को सुनकर वह वणिक की भार्या व्रत करने को उद्यत हुई और प्रसन्न मन से उस साध्वी ने बन्धु-बान्धवों के साथ भगवान् श्रीसत्यनारायण का व्रत किया तथा इस प्रकार प्रार्थना की – ‘भगवन! आप हमारे पति एवं जामाता के अपराध को क्षमा करें. वे दोनों अपने घर शीघ्र आ जायं.’ इस व्रत से भगवान सत्यनारायण पुनः संतुष्ट हो गये तथा उन्होंने नृपश्रेष्ठ चन्द्रकेतु को स्वप्न दिखाया और स्वप्न में कहा – ‘नृपश्रेष्ठ! प्रातः काल दोनों वणिकों को छोड़ दो और वह सारा धन भी दे दो, जो तुमने उनसे इस समय ले लिया है, अन्यथा राज्य, धन एवं पुत्रसहित तुम्हारा सर्वनाश कर दूंगा.’ राजा से स्वप्न में ऐसा कहकर भगवान सत्यनारायण अन्तर्धान हो गये. इसके बाद प्रातः काल राजा ने अपने सभासदों के साथ सभा में बैठकर अपना स्वप्न लोगों को बताया और कहा – ‘दोनों बंदी वणिकपुत्रों को शीघ्र ही मुक्त कर दो.’ राजा की ऐसी बात सुनकर वे राजपुरुष दोनों महाजनों को बन्धनमुक्त करके राजा के सामने लाकर विनयपूर्वक बोले – ‘महाराज! बेड़ी-बन्धन से मुक्त करके दोनों वणिक पुत्र लाये गये हैं. इसके बाद दोनों महाजन नृपश्रेष्ठ चन्द्रकेतु को प्रणाम करके अपने पूर्व-वृतान्त का स्मरण करते हुए भयविह्वन हो गये और कुछ बोल न सके. राजा ने वणिक पुत्रों को देखकर आदरपूर्वक कहा -‘आप लोगों को प्रारब्धवश यह महान दुख प्राप्त हुआ है, इस समय अब कोई भय नहीं है.’, ऐसा कहकर उनकी बेड़ी खुलवाकर क्षौरकर्म आदि कराया. राजा ने वस्त्र, अलंकार देकर उन दोनों वणिकपुत्रों को संतुष्ट किया तथा सामने बुलाकर वाणी द्वारा अत्यधिक आनन्दित किया. पहले जो धन लिया था, उसे दूना करके दिया, उसके बाद राजा ने पुनः उनसे कहा – ‘साधो! अब आप अपने घर को जायं.’ राजा को प्रणाम करके ‘आप की कृपा से हम जा रहे हैं.’ – ऐसा कहकर उन दोनों महावैश्यों ने अपने घर की ओर प्रस्थान किया.

  • चौथा अध्याय :
    श्रीसूत जी बोले – साधु बनिया मंगलाचरण कर और ब्राह्मणों को धन देकर अपने नगर के लिए चल पड़ा. साधु के कुछ दूर जाने पर भगवान सत्यनारायण की उसकी सत्यता की परीक्षा के विषय में जिज्ञासा हुई – ‘साधो! तुम्हारी नाव में क्या भरा है?’ तब धन के मद में चूर दोनों महाजनों ने अवहेलनापूर्वक हंसते हुए कहा – ‘दण्डिन! क्यों पूछ रहे हो? क्या कुछ द्रव्य लेने की इच्छा है? हमारी नाव में तो लता और पत्ते आदि भरे हैं.’ ऐसी निष्ठुर वाणी सुनकर – ‘तुम्हारी बात सच हो जाय’ – ऐसा कहकर दण्डी संन्यासी को रूप धारण किये हुए भगवान कुछ दूर जाकर समुद्र के समीप बैठ गये. दण्डी के चले जाने पर नित्यक्रिया करने के पश्चात उतराई हुई अर्थात जल में उपर की ओर उठी हुई नौका को देखकर साधु अत्यन्त आश्चर्य में पड़ गया और नाव में लता और पत्ते आदि देखकर मुर्छित हो पृथ्वी पर गिर पड़ा. सचेत होने पर वणिकपुत्र चिन्तित हो गया. तब उसके दामाद ने इस प्रकार कहा – ‘आप शोक क्यों करते हैं? दण्डी ने शाप दे दिया है, इस स्थिति में वे ही चाहें तो सब कुछ कर सकते हैं, इसमें संशय नहीं. अतः उन्हीं की शरण में हम चलें, वहीं मन की इच्छा पूर्ण होगी.’ दामाद की बात सुनकर वह साधु बनिया उनके पास गया और वहां दण्डी को देखकर उसने भक्तिपूर्वक उन्हें प्रणाम किया तथा आदरपूर्वक कहने लगा – आपके सम्मुख मैंने जो कुछ कहा है, असत्यभाषण रूप अपराध किया है, आप मेरे उस अपराध को क्षमा करें – ऐसा कहकर बारम्बार प्रणाम करके वह महान शोक से आकुल हो गया. दण्डी ने उसे रोता हुआ देखकर कहा – ‘हे मूर्ख! रोओ मत, मेरी बात सुनो. मेरी पूजा से उदासीन होने के कारण तथा मेरी आज्ञा से ही तुमने बारम्बार दुख पाया है.’ भगवान की ऐसी वाणी सुनकर वह उनकी स्तुति करने लगा. साधु ने कहा – ‘हे प्रभो! यह आश्चर्य की बात है कि आपकी माया से मोहित होने के कारण ब्रह्मा आदि देवता भी आपके गुणों और रूपों को यथावत रूप से नहीं जान पाते, फिर मैं मूर्ख आपकी माया से मोहित होने के कारण कैसे जान सकता हूं! आप प्रसन्न हों. मैं अपनी धन-सम्पत्ति के अनुसार आपकी पूजा करूंगा. मैं आपकी शरण में आया हूं. मेरा जो नौका में स्थित पुराा धन था, उसकी तथा मेरी रक्षा करें.’ उस बनिया की भक्तियुक्त वाणी सुनकर भगवान जनार्दन संतुष्ट हो गये. भगवान हरि उसे अभीष्ट वर प्रदान करके वहीं अन्तर्धान हो गये. उसके बाद वह साधु अपनी नौका में चढ़ा और उसे धन-धान्य से परिपूर्ण देखकर ‘भगवान सत्यदेव की कृपा से हमारा मनोरथ सफल हो गया’ – ऐसा कहकर स्वजनों के साथ उसने भगवान की विधिवत पूजा की. भगवान श्री सत्यनारायण की कृपा से वह आनन्द से परिपूर्ण हो गया और नाव को प्रयत्नपूर्वक संभालकर उसने अपने देश के लिए प्रस्थान किया. साधु बनिया ने अपने दामाद से कहा – ‘वह देखो मेरी रत्नपुरी नगरी दिखायी दे रही है’. इसके बाद उसने अपने धन के रक्षक दूत कोअपने आगमन का समाचार देने के लिए अपनी नगरी में भेजा. उसके बाद उस दूत ने नगर में जाकर साधु की भार्या को देख हाथ जोड़कर प्रणाम किया तथा उसके लिए अभीष्ट बात कही -‘सेठ जी अपने दामाद तथा बन्धुवर्गों के साथ बहुत सारे धन-धान्य से सम्पन्न होकर नगर के निकट पधार गये हैं.’ दूत के मुख से यह बात सुनकर वह महान आनन्द से विह्वल हो गयी और उस साध्वी ने श्री सत्यनारायण की पूजा करके अपनी पुत्री से कहा -‘मैं साधु के दर्शन के लिए जा रही हूं, तुम शीघ्र आओ.’ माता का ऐसा वचन सुनकर व्रत को समाप्त करके प्रसाद का परित्याग कर वह कलावती भी अपने पति का दर्शन करने के लिए चल पड़ी. इससे भगवान सत्यनारायण रुष्ट हो गये और उन्होंने उसके पति को तथा नौका को धन के साथ हरण करके जल में डुबो दिया. इसके बाद कलावती कन्या अपने पति को न देख महान शोक से रुदन करती हुई पृथ्वी पर गिर पड़ी. नाव का अदर्शन तथा कन्या को अत्यन्त दुखी देख भयभीत मन से साधु बनिया से सोचा – यह क्या आश्चर्य हो गया? नाव का संचालन करने वाले भी सभी चिन्तित हो गये. तदनन्तर वह लीलावती भी कन्या को देखकर विह्वल हो गयी और अत्यन्त दुख से विलाप करती हुई अपने पति से इस प्रकार बोली -‘ अभी-अभी नौका के साथ वह कैसे अलक्षित हो गया, न जाने किस देवता की उपेक्षा से वह नौका हरण कर ली गयी अथवा श्रीसत्यनारायण का माहात्म्य कौन जान सकता है!’ ऐसा कहकर वह स्वजनों के साथ विलाप करने लगी और कलावती कन्या को गोद में लेकर रोने लगी. कलावती कन्या भी अपने पति के नष्ट हो जाने पर दुखी हो गयी और पति की पादुका लेकर उनका अनुगमन करने के लिए उसने मन में निश्चय किया. कन्या के इस प्रकार के आचरण को देख भार्यासहित वह धर्मज्ञ साधु बनिया अत्यन्त शोक-संतप्त हो गया और सोचने लगा – या तो भगवान सत्यनारायण ने यह अपहरण किया है अथवा हम सभी भगवान सत्यदेव की माया से मोहित हो गये हैं. अपनी धन शक्ति के अनुसार मैं भगवान श्री सत्यनारायण की पूजा करूंगा. सभी को बुलाकर इस प्रकार कहकर उसने अपने मन की इच्छा प्रकट की और बारम्बार भगवान सत्यदेव को दण्डवत प्रणाम किया. इससे दीनों के परिपालक भगवान सत्यदेव प्रसन्न हो गये. भक्तवत्सल भगवान ने कृपापूर्वक कहा – ‘तुम्हारी कन्या प्रसाद छोड़कर अपने पति को देखने चली आयी है, निश्चय ही इसी कारण उसका पति अदृश्य हो गया है. यदि घर जाकर प्रसाद ग्रहण करके वह पुनः आये तो हे साधु बनिया तुम्हारी पुत्री पति को प्राप्त करेगी, इसमें संशय नहीं. कन्या कलावती भी आकाशमण्डल से ऐसी वाणी सुनकर शीघ्र ही घर गयी और उसने प्रसाद ग्रहण किया. पुनः आकर स्वजनों तथा अपने पति को देखा. तब कलावती कन्या ने अपने पिता से कहा – ‘अब तो घर चलें, विलम्ब क्यों कर रहे हैं?’ कन्या की वह बात सुनकर वणिकपुत्र संतुष्ट हो गया और विधि-विधान से भगवान सत्यनारायण का पूजन करके धन तथा बन्धु-बान्धवों के साथ अपने घर गया. तदनन्तर पूर्णिमा तथा संक्रान्ति पर्वों पर भगवान सत्यनारायण का पूजन करते हुए इस लोक में सुख भोगकर अन्त में वह सत्यपुर बैकुण्ठलोक में चला गया.

  • पांचवा अध्याय :
    श्रीसूत जी बोले – श्रेष्ठ मुनियों! अब इसके बाद मैं दूसरी कथा कहूंगा, आप लोग सुनें. अपनी प्रजा का पालन करने में तत्पर तुंगध्वज नामक एक राजा था. उसने सत्यदेव के प्रसाद का परित्याग करके दुख पाया. एक बाद वह वन में जाकर और वहां बहुत से पशुओं को मारकर वटवृक्ष के नीचे आया. वहां उसने देखा कि गोपगण बन्धु-बान्धवों के साथ संतुष्ट होकर भक्तिपूर्वक भगवान सत्यदेव की पूजा कर रहे हैं. राजा यह देखकर भी अहंकारवश न तो वहां गया और न उसे भगवान सत्यनारायण को प्रणाम ही किया. पूजन के बाद सभी गोपगण भगवान का प्रसाद राजा के समीप रखकर वहां से लौट आये और इच्छानुसार उन सभी ने भगवान का प्रसाद ग्रहण किया. इधर राजा को प्रसाद का परित्याग करने से बहुत दुख हुआ. उसका सम्पूर्ण धन-धान्य एवं सभी सौ पुत्र नष्ट हो गये. राजा ने मन में यह निश्चय किया कि अवश्य ही भगवान सत्यनारायण ने हमारा नाश कर दिया है. इसलिए मुझे वहां जाना चाहिए जहां श्री सत्यनारायण का पूजन हो रहा था. ऐसा मन में निश्चय करके वह राजा गोपगणों के समीप गया और उसने गोपगणों के साथ भक्ति-श्रद्धा से युक्त होकर विधिपूर्वक भगवान सत्यदेव की पूजा की. भगवान सत्यदेव की कृपा से वह पुनः धन और पुत्रों से सम्पन्न हो गया तथा इस लोक में सभी सुखों का उपभोग कर अन्त में सत्यपुर वैकुण्ठलोक को प्राप्त हुआ. श्रीसूत जी कहते हैं – जो व्यक्ति इस परम दुर्लभ श्री सत्यनारायण के व्रत को करता है और पुण्यमयी तथा फलप्रदायिनी भगवान की कथा को भक्तियुक्त होकर सुनता है, उसे भगवान सत्यनारायण की कृपा से धन-धान्य आदि की प्राप्ति होती है. दरिद्र धनवान हो जाता है, बन्धन में पड़ा हुआ बन्धन से मुक्त हो जाता है, डरा हुआ व्यक्ति भय मुक्त हो जाता है – यह सत्य बात है, इसमें संशय नहीं. इस लोक में वह सभी ईप्सित फलों का भोग प्राप्त करके अन्त में सत्यपुर वैकुण्ठलोक को जाता है. हे ब्राह्मणों! इस प्रकार मैंने आप लोगों से भगवान सत्यनारायण के व्रत को कहा, जिसे करके मनुष्य सभी दुखों से मुक्त हो जाता है. कलियुग में तो भगवान सत्यदेव की पूजा विशेष फल प्रदान करने वाली है. भगवान विष्णु को ही कुछ लोग काल, कुछ लोग सत्य, कोई ईश और कोई सत्यदेव तथा दूसरे लोग सत्यनारायण नाम से कहेंगे. अनेक रूप धारण करके भगवान सत्यनारायण सभी का मनोरथ सिद्ध करते हैं. कलियुग में सनातन भगवान विष्णु ही सत्यव्रत रूप धारण करके सभी का मनोरथ पूर्ण करने वाले होंगे. हे श्रेष्ठ मुनियों! जो व्यक्ति नित्य भगवान सत्यनारायण की इस व्रत-कथा को पढ़ता है, सुनता है, भगवान सत्यारायण की कृपा से उसके सभी पाप नष्ट हो जाते हैं. हे मुनीश्वरों! पूर्वकाल में जिन लोगों ने भगवान सत्यनारायण का व्रत किया था, उसके अगले जन्म का वृतान्त कहता हूं, आप लोग सुनें. महान प्रज्ञासम्पन्न शतानन्द नाम के ब्राह्मण सत्यनारायण व्रत करने के प्रभाव से दूसे जन्म में सुदामा नामक ब्राह्मण हुए और उस जन्म में भगवान श्रीकृष्ण का ध्यान करके उन्होंने मोक्ष पाया. लकड़हारा भिल्ल गुहों का राजा हुआ और अगले जन्म में उसने भगवान श्रीराम की सेवा करके मोक्ष पाया. महाराज उल्कामुख दूसरे जन्म में राजा दशरथ हुए, जिन्होंने श्रीरंगनाथजी की पूजा करके अन्त में वैकुण्ठ पाया. इसी प्रकार धार्मिक और सत्यव्रती साधु पिछले जन्म के सत्यव्रत के प्रभाव से दूसरे जन्म में मोरध्वज नामक राजा हुआ. उसने आरे सेचीरकर अपने पुत्र की आधी देह भगवान विष्णु को अर्पित कर मोक्ष पाया. महाराजा तुंगध्वज जन्मान्तर में स्वायम्भुव मनु हुए और भगवत्सम्बन्धी सम्पूर्ण कार्यों का अनुष्ठान करके वैकुण्ठलोक को प्राप्त हुए. जो गोपगण थे, वे सब जन्मान्तर में व्रजमण्डल में निवास करने वाले गोप हुए और सभी राक्षसों का संहार करके उन्होंने भी भगवान का शाश्वत धाम गोलोक पाया.

.

About Abhi @ SuvicharHindi.Com ( SEO, Tips, Thoughts, Shayari )

Hi, Friends मैं Abhi, SuvicharHindi.Com का Founder और Owner हूँ. हमारा उद्देश्य है Visitors के लिए विभन्न प्रकार की जानकारियाँ उपलब्ध करवाना. अगर आप भी लिखने का शौक रखते हैं, तो 25suvicharhindi@gmail.com पर अपनी मौलिक रचनाएँ जरुर भेजें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!