Recent Posts

पेड़ बचाओ कविता हिन्दी में || Poem on trees in Hindi language font save tree

Poem on trees in Hindi – Save Tree Poem in Hindi Language – Save Tree Poem in Hindi Language – Tree Poem in Hindi Language – पेड़ पर कविता – poem on trees in hindi – पेड़ पर कविता – poem on trees in hindi –  पेड़ बचाओ कविता हिन्दी में || Poem on trees in Hindi language font save treeपेड़ बचाओ कविता हिन्दी में - Save Tree Poem in Hindi Language Font

 

  • पेड़ बचाओ कविता हिन्दी में – Save Tree Poem in Hindi Language Font 

 

  • पेड़ का दर्द

    कितने प्यार से किसी ने
    बरसों पहले मुझे बोया था
    हवा के मंद मंद झोंको  ने
    लोरी गाकर सुलाया  था ।
    कितना विशाल घना वृक्ष
    आज  मैं  हो  गया  हूँ
    फल फूलो से लदा
    पौधे से वृक्ष हो गया हूँ  ।
    कभी कभी मन में
    एकाएक विचार करता हूँ
    आप सब मानवों से
    एक सवाल करता हूँ  ।
    दूसरे पेड़ों की भाँति
    क्या मैं भी काटा जाऊँगा
    अन्य वृक्षों की भाँति
    क्या मैं भी वीरगति पाउँगा ।
    क्यों बेरहमी से मेरे सीने
    पर कुल्हाड़ी चलाते हो
    क्यों बर्बरता से सीने
    को छलनी करते हो ।
    मैं तो तुम्हारा सुख
    दुःख का साथी हूँ
    मैं तो तुम्हारे लिए
    साँसों की भाँति हूँ।
    मैं तो तुम लोगों को
    देता हीं देता हूँ
    पर बदले में
    कछ नहीं लेता हूँ  ।
    प्राण वायु  देकर तुम पर
    कितना उपकार करता हूँ
    फल-फूल देकर तुम्हें
    भोजन देता हूँ।
    दूषित हवा लेकर
    स्वच्छ हवा देता हूँ
    पर बदले में कुछ नहीं
    तुम से लेता हूँ ।
    ना काटो मुझे
    ना काटो मुझे
    यही मेरा दर्द है।
    यही मेरी गुहार है।
    यही मेरी पुकार  है।
    – अंजू गोयल

 

  • आओ चलें वृक्ष लगायें :-#

    वृक्ष तू जीवन का आधार
    है धरती का अद्भुत उपहार !
    जिसको तू नित्य जीवन देता
    वही तेरा कर रहा संहार !
    तेरे हीं छाँव के नीचे खेला
    गुल्ली-डंडा खेल हुआ बड़ा !
    जब भी उसको चोट लगी
    तेरा हीं छाल – पत्ती तोड़ा !
    आज घर से लाया है कुल्हाड़ी
    करनी है तेरी छाती पर वार !
    जिसका तू नित्य जीवन देता
    वही तेरा कर. रहा संहार !
    काट डाला उस टहनी को
    जिसके नीचे कभी बांधा था झूला!
    थक हार तेरे छाँव में बैठा
    तेरे सारे उपकार को भूला !
    खुद जहरीले धुंआ सोख तू
    प्राण – वायु कर रहा संचार !
    जिसका तू नित्य जीवन देता
    वही तेरा कर रहा संहार !
    तुमसे बड़ा सेवक है कौन ?
    तेरे आगे नीलकंठ है मौन !
    सत्य – अहिंसा ,के पुजारी
    बुध्द और गाँधी भी गौण !
    प्रकृति का अनमोल है वृक्ष
    मत करो हरे पेड़ पर वार !
    जिसका तू नित्य जीवन देता
    वही तेरा कर रहा संहार !
    अंधाधुंध कटाई जंगल का
    सम्पूर्ण शहर बन गया है भठ्ठी !
    आओ चलें वृक्ष लगायें
    वृक्ष. लगाकर बचालें धरती !
    तेरे हरियाली लाये खुशहाली
    तू है धरती का श्रृंगार !
    जिसका तू नित्य जीवन देता
    वही तेरा कर रहा संहार !
    वृक्ष तू जीवन का आधार
    है धरती का अदभूत उपहार !
    जिसका तू नित्य जीवन देता
    वही तेरा कर रहा संहार !
    – चन्दन कुमार
    प्रधानाध्यापक
    स्तरोन्नत उच्च विद्यालय लठेया
    छत्तरपुर,पलामू

 

  • ped ka dard

    kitane pyaar se kisee ne
    barason pahale mujhe boya tha
    hava ke mand mand jhonko ne
    loree gaakar sulaaya tha .
    kitana vishaal ghana vrksh
    aaj main ho gaya hoon
    phal phoolo se lada
    paudhe se vrksh ho gaya hoon .
    kabhee kabhee man mein
    ekaek vichaar karata hoon
    aap sab maanavon se
    ek savaal karata hoon .
    doosare pedon kee bhaanti
    kya main bhee kaata jaoonga
    any vrkshon kee bhaanti
    kya main bhee veeragati paunga .
    kyon berahamee se mere seene
    par kulhaadee chalaate ho
    kyon barbarata se seene
    ko chhalanee karate ho .
    main to tumhaara sukh
    duhkh ka saathee hoon
    main to tumhaare lie
    saanson kee bhaanti hoon.
    main to tum logon ko
    deta heen deta hoon
    par badale mein
    kachh nahin leta hoon .
    praan vaayu dekar tum par
    kitana upakaar karata hoon
    phal-phool dekar tumhen
    bhojan deta hoon.
    dooshit hava lekar
    svachchh hava deta hoon
    par badale mein kuchh nahin
    tum se leta hoon .
    na kaato mujhe
    na kaato mujhe
    yahee mera dard hai.
    yahee meree guhaar hai.
    yahee meree pukaar hai.
    – anjoo goyal

  • कर्तव्य पर हिन्दी कविता – Poem On Kartavya in Hindi Responsibility

 

अगर आप कविता, कहानी इत्यादि लिखने में सक्षम हैं, तो हमें अपनी रचनाएँ 25suvicharhindi@gmail.com पर भेजें. आपकी रचनाएँ मौलिक और अप्रकाशित होनी चाहिए.

About Abhi

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.

One comment

  1. Anonymous

    Thnx bery much for this beautiful poem

  2. hari

    VERY COOL

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!