Short Funny Poem in Hindi शोर्ट फनी पोएम हिन्दी में hasya comedy curious poetries :

Short Funny Poem in Hindi – शोर्ट फनी पोएम हिन्दी में
Short Funny Poem in Hindi

Short Funny Poem in Hindi

  • जब मैं आया “तेरे शहर में”,
    निगाहें जा टकराई “सुहानी सी एक लड़की से”,
    “उड़ान” भरने लगा दिल यूं,जैसे “सपने सुहाने लड़कपन के”,
    “एक बूंद इश्क” की चाह में,
    बिछ गए “सपनों से भरे नयना”,
    देखा सपना एक “डोली सजा के” प्यार की,
    “साथ निभाना साथिया”,
    पर हो गई एक ही झटके में,
    सारे सपनों की “विदाई”,
    जब लड़की की सहेली ने कहा,
    है तेरे “इश्क का रंग सफेद”,
    क्योंकि है “वो रहने वाली महलों की”,
    नहीं आयेगी “चिड़ियाघर” में तेरे,
    उसकी “डोली अरमानों की”,
    “राजा की आयेगी बारात” एक दिन,
    और ले जायेगी उसे “ससुराल सिमर का”,
    सुनकर यह नम हो गई आंखें उसकी,
    मासूम सा दिल उस लड़के का,
    बन गया “बदतमीज दिल”,
    कर ली एक “प्रतिज्ञा” उसने,
    बहुत जल्द मैं “एक घर बनाऊंगा”,
    और लाऊंगा उसे इस “सतरंगी ससुराल में”,
    क्योंकि है “मेरी आशिकी तुम से ही”,
    दोनों मिलकर करेंगें “दिल दोस्ती और डांस”,
    आयेगा एक दिन ऐसा भी,
    जब तू भी कहेगी मुझसे,
    मैं हूं तेरी “ड्रिमगर्ल” और
    तू मेरा “पियारंगरेज”,
    सुनकर लड़के की ये “मनमर्जियां”,
    लड़के के पिता ने कहा,
    नहीं हो सकती पूरी तेरी ये अर्जियां,
    देखा है मैंने भी सपना एक,
    आयेगी “सर्विसवाली बहु” ब्याह के “मेरे अंगने में”,
    सुनकर बातें पिता की फँस गया बेचारा,
    “कसौटी जिंदगी की” के सफर में,
    कहाँ होगा “कुमकुम भाग्य” हमारा,
    जब सजायेगी वो अपने प्यार से,
    इस “स्वरागिनी” को,
    सुनकर बातें बेटे की,
    पिता ने दी एक “थपकी प्यार की”,
    कहा “ये है आशिकी” तेरी,
    “कुबुल है” मुझे तेरी हर “नादानियां”,
    “दिल से दी दुआ – स्वभाग्यवती भव:” हो वो,
    फिर शुरू हुई कहानी “टशन-ए-इश्क” की,
    सुनकर “इमोशनल अत्याचार” उस लड़के का,
    बन गया लड़की का दिल “सी•आई•डी” और “रिपोर्टर”,
    आखिर हार गई वो लड़की भी और कहा,
    “ये हैं मोहब्बतें” तेरी “बेइंतहां”,
    बन जा “तू मेरा हीरो” और ” बनूं मैं तेरी दुल्हन”,
    खुशियों के “कलश” से सजाऊंगी घर को तेरे,
    और हो जा तू घर का मेरे “जमाई राजा”,
    रहेंगें साथ मिलकर “दिया और बाती हम”,
    रखूंगी ख्याल तेरी “टेढ़ी-मेढ़ी फैमिली” का,
    और फिर बनेगी एक नई कहानी,
    “एक था राजा एक थी रानी …”
    – काजल कुमारी झा

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.