इन्हें भी जरुर पढ़ें ➜
Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

सूर्य नमस्कार के मन्त्र और फायदे || Surya Namaskar Mantra in Hindi benefits

surya namaskar mantra in hindi – surya namaskar benefits in hindi – सूर्य नमस्कार मन्त्र इन हिंदी – सूर्य नमस्कार के फायदे – surya namaskar mantra in hindi – surya namaskar benefits in hindi – सूर्य नमस्कार मन्त्र इन हिंदी – सूर्य नमस्कार के फायदे – surya namaskar mantra in hindi – surya namaskar benefits in hindi – सूर्य नमस्कार मन्त्र इन हिंदी – सूर्य नमस्कार के फायदे – surya namaskar mantra in hindi – surya namaskar benefits in hindi – सूर्य नमस्कार मन्त्र इन हिंदी – सूर्य नमस्कार के फायदेसूर्य नमस्कार के मन्त्र और फायदे || Surya Namaskar Mantra in Hindi benefits

सूर्य नमस्कार के मन्त्र और फायदे || Surya Namaskar Mantra in Hindi benefits

 

  • योग का महायोग:- सूर्यनमस्कार
  • योग का प्रादुर्भाव भारत में हजारों वर्ष पहले हुआ, यह हमारे ऋषि-मुनियों की देन है आज योग मात्र आश्रमों और
    साधु संतों तक ही सीमित नहीं रहा बल्कि कुछ वर्षों से योग हमारे दैनिक जीवन का आधार बन गया है।
  • योग का अर्थ है जोड़ना, एक ऐसी पद्धति जिसके द्वारा व्यक्ति अपनी अंतर्निहित शक्तियों को संग्रहित रूप से विकसित
    करके आत्मा को सर्वव्यापी परमात्मा से जोड़ सकता है।

 

  • सूर्य नमस्कार को योगासनों में सर्वश्रेष्ठ कहा गया है। यह अकेला अभ्यास ही साधक को सम्पूर्ण योग व्यायाम का लाभ पहुॅचाने में समर्थ है । इसके अभ्यास से शरीर में आरोग्य, शक्ति एवं ऊर्जा की प्राप्ति होती है। साधक का शरीर नीरोग एवं स्वस्थ होकर तेजस्वी हो जाता है। इसका अभ्यास बाल, युवा, वृद्ध सभी महिला पुरूष कर सकते है ।
  • ऋग्वेद में लिखा है- “ सूर्यो वै आत्मा जगतस्तस्युश्च”
  • अर्थात सूर्य ही सारे संसार की आत्मा है।
  • Importance of Sun – सूर्य का महत्व:-

  • सूर्य प्रत्यक्ष दिखायी देने वाले भगवान है, सूर्य के दर्शन मात्र से मन प्रसन्न होकर बुद्धि तेजस्वी एवं प्रतिभा सपन्न होती है, व तेज एवं शक्ति शरीर मे प्रवेश करती है। सूर्य की किरणो से कीटाणुओ का नाश होकर हवा शुद्ध होती है। सूर्य के कारण ही जल का वाष्प मे परिवर्तन होकर वर्षा होती है। सूर्य के कारण ही वनस्पती, वृक्ष, पशु-पक्षी, मनुष्य, प्राणी इन सबका अस्तित्व है। सूर्य के कारण ही हमे प्रकृति पत्ते, फूल, फल, सब्जियां, धन-धान्य भरपूर मात्रा मे उपलब्ध होते है। हमारा सारा जीवन इसी पर निर्भर हैं संपूर्ण प्रकृति का चक्र सूर्य पर ही निर्भर है।
  • सूर्य नमस्कार: सभी के लिये सर्वांग सुन्दर व्यायाम:-
  • आजकल की भागदौड एवं स्पर्धात्मक जीवन शैली मे व्यायाम के लिये आवश्यक समय निकाल पाना हर एक के लिये सम्भव नहीं है। बैठी जीवन शैली, कम्प्यूटर के सामने घन्टो बैठे काम करना, खाने मे फास्ट फूड्स का प्रयोग, अधिकाधिक अंक या धन प्राप्त करने के प्रयासों में आने वाला तनाव और व्यायाम के अभाव में तरूणाई में उच्च रक्तदाब, मधुमेह, हदयविकार, संधिवात, मानसिक दुर्बलता ऐसी अनेक बीमारियां बढती जा रही है। इन सबसे छुटकारा पाने के लिये प्रतिदिन कम से कम 13 सूर्यनमस्कार करना एक रामबाण इलाज है।
  • सूर्यनमस्कार: एक आराधना:-

  • व्यायाम के बहुत प्रकार है। कई लोग अपनी अपनी पद्धति को निष्ठा एवं श्रद्धा से स्वीकार करते है। इसके बावजूद सभी समाजो द्वारा सहज रूप से स्वीकार्य यह सूर्यनमस्कार का योग अब सारी दुनिया स्वीकार कर रही है। बडे स्तर पर योगशास्त्र पर प्रयोग एवं शोध शुरू हो चुके है। सूर्यनमस्कार पर भी इस प्रकार के प्रयोग एवं शोध चल रहे है। सूर्यनमस्कार के संख्यात्मकता एवं गुणात्मकता से होने वाले फायदे एंव सूर्यशक्ति से होने वाले फायदे वर्तमान समय में सूचीबद्ध किये जा रहे है। शरीर के स्वास्थ्य लाभ के लिये बहुत महत्वपूर्ण है, निष्ठा एव श्रद्धा से प्रतिदिन सूर्यनमस्कार करना एक आराधना ही है। यह बात ध्यान देने योग्य है कि सूर्यभगवान की इस आराधना मे जाति, धर्म, पंथ इत्यादि का बंधन आडे नही आता है और इसी कारण सूर्यनमस्कार व्यायाम को आराधना का महत्व प्राप्त है। सारी दुनिया इस उपासना पद्धति को स्वीकार भी करती है। जैसे-जैसे विज्ञान की उन्नति होगी सूर्यनमस्कार का महत्व दुनिया के सामने और अधिक स्पष्ट होता जायेगा। आवश्यक यह है, कि प्रत्येक व्यक्ति द्वारा इसका अनुभव किया जावे एवं इसका प्रचार-प्रसार किया जावें।

 

  • Surya Namaskar Yoga Benefits in Hindi

  • सूर्यनमस्कार के लाभ
  • इससे शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक विकास होता है, शरीर मे संयम आकर अहंकार मे कमी आती है।
    तेज और शक्ति का संचार होता है। शरीर के सभी अवयव, जोड एवं मांस पेशियाँ कार्यक्षम होकर शरीर लचीला
    एवं मजबूत बनता है। दीर्धायु प्राप्त होती है, मन एकाग्रचिंत्त होता है, व शरीर निरोगी रहता है। उत्तम स्वास्थ्य का
    मतलब है, शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक और सामाजिक स्वास्थ्य, और यह प्रतिदिन सूर्यनमस्कार करने
    से प्राप्त होता है। एक स्वस्थ शरीर मे ही स्वस्थ मन निवास करता है।
  • इसको करने से विधार्थी की स्मरण शक्ति बढ जाती है। जिससे उन्हे परीक्षा परिणाम तथा प्रतियोगी परीक्षाओ मे आशातीत सफलता मिलती है। खिलाडियो को भी सूर्यनमस्कार कराने से उनके शरीर मे लचीलापन, शक्ति एवं मानसिक क्षमता का विकास होता हे। सिंगापुर के स्पोर्ट्स साइंस सेन्टर (जहां प्रतिवर्ष एशियाई खेलो में पदक प्राप्त करने वाले खिलाडी तैयार होते है।) पर सूर्य नमस्कार तथा अन्य व्यायामो की तुलना करने के पश्चात् काॅर्टेक्स मशीन पर जांच करने से बहत ही अच्छे परिणाम मिले है।
  • सूर्य नमस्कार करने से शारीरिक व मानसिक क्षमता के साथ-साथ 100 वर्षे तक निरोगी जीवन जिया जा सकता है।
    छत्रपति शिवाजी के गुरू समर्थ गुरू रामदास तथा श्री माघव राव गोलवलकर (श्री गुरू जी) भी प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करते थें।
  • सूर्यनमस्कार व श्वसन
  • सूर्यनमस्कार में श्वसन का अत्यंत महत्व है। श्वसन का रक्तशुति एवं रक्तसंचार से सीधा संबंध है।
    श्वसन नाक से ही करें तथा वह शांत एवं लयबद्ध हो। श्वसन की तीन क्रियांये होती है –
  • पूरक, रेचक, कुंभक इन तीन क्रियाओं के करने में फेफड़ो का पूर्ण क्षमता से उपयोग होता है, जिससे श्वसन का मार्ग खुलता है । प्राणायाम के सभी फायदे इसी से मिलते है।

 

  • Surya Namaskar Mantra in Hindi

  • सूर्य के नाम: नाम मंत्र
  • प्रतिदिन 13 सूर्यनमस्कार करते समय प्रत्येक सूर्यनमस्कार के साथ एक एक सूर्य का नाम बोलना चाहिए।
  • 1. ओम मित्राय नमः।                     7.    ओम हिरण्यगर्भाय नमः।
  • 2. ओम रवये नमः।                      8.    ओम मरीचये नमः।
  • 3. ओम सूर्याय नमः।                     9.    ओम आदित्याय नमः।
  • 4. ओम भानवे नमः।                     10.   ओम सवित्रें नमः।
  • 5. ओम खगाय नमः।                     11.    ओम अर्काय नमः।
  • 6. ओम पूष्णे नमः।                      12.   ओम भास्कराय नमः।
  • 13. ओम श्री सवितृ सूर्यनारायणाय नमः।
  • सूर्य नमस्कार खुली शुद्ध हवा में, स्वच्छ स्थान पर करना चाहिए।  इस योग से रक्त संचार एवं अन्य क्रियाएं लयबद्ध होती है। अनैच्छिक क्रियाओं पर नियंत्रण रहता है और रोगों का निवारण होता है। यह योग निरामय एवं दीर्धायु जीवन के लिए लाभदायक है।
  • योग के अनेकों लाभों का ध्यान में रखते हुए माननीय श्रीमान नरेन्द्र जी मोदी के अथक प्रयास से ही 21 जून को 2015 को योग दिवस के रूप में मनाने के लिए  अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित किया गया । वर्तमान में पूर्ण विश्व में योग दिवस को सभी सरकारी एवं गैर सरकारी संगठनो द्वारा इसे भारी समर्थन मिला है एवं पूर्ण क्रियान्विति की गई है।
  • रामचन्द्र स्वामी (अध्यापक)
  • रा. उ. मा. वि. नत्थूसर गेट, बीकानेर

 

इन्हें भी जरुर पढ़ें ↓ ↓ ↓

About Abhi

Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.
Previous घर बनाने में 3-5 लाख रुपए तक बचाएगी यह ईंट || Fly ash bricks Benefits in Hindi
Next लव हिंदी कविता संग्रह || Love Hindi Kavita Sangrah Pyar poerties collections

One comment

  1. HindiApni

    Sir Aapka yah post bahut achha laga aapne surya namaskar ke bare me bahut hi achhi jankari share ki hain iske liye Dhnyabad.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!