जिंदगी पर हिन्दी कविता – Zindagi Poem in Hindi Language

0
48
जिंदगी पर हिन्दी कविता - Zindagi Poem in Hindi Language

Zindagi Poem in Hindi – Zindagi Poem in Hindi – Zindagi Poem in Hindi
जिंदगी पर हिन्दी कविता - Zindagi Poem in Hindi Language

 

  • जिंदगी पर हिन्दी कविता – Zindagi Poem in Hindi Language

 

  • जिंदगी
    खुशियों की महक से है बनती जिंदगी,
    सपनों की कलम से है लिखनी जिंदगी ।
    कहना है तुझसे बस इतना जिंदगी ,
    हर मोड़ पर, तू संभलना जिंदगी ।
    जीत आसानी से मिले तो क्या जिंदगी ,
    कभी-कभी दुख भी सहना जिंदगी ।
    पर आखिर में तो है हँसना जिंदगी ,
    कांटो के बीच है रहना जिंदगी ।
    पर गुलाबों की तरह है महकना जिंदगी ।।
    आखिर में है ये कहना जिंदगी ,
    कि हर वक्त यूं जियो जिंदगी ।
    कि अगले पल फिर मिले या ना मिले जिंदगी ।।
    – श्रद्धा कक्षा – 11 ब
  • दुआ
    दौलत कम कमाई है
    मगर इज्जत और प्यार हर दिन कमाता हूँ
    ऐशो आराम की जिंदगी तो नहीं है मेरी
    मगर जितना है  उसे सबके साथ बाट के खाता हूँ।
    जब महंगाई देखता हूँ,  तो मलाल होता है कम कमाने का।
    जब बेईमानी देखता हूँ, तो बुरा लगता है ईमानदारों का हाल देखकर।
    मगर फिर जब मैं अपनी थाली में से  किसी गरीब को खिलाता हूं तो पता चलता है।
    कि मुझसे अमीर तो कोई हैं ही नहीं मेरे पास तो इतने लोगों की दुआएँ है।
    पैसों से हर चीज खरीदी जा सकती है।
    मगर खुशी प्यार ओर  सच्चे दिल से निकली दुआ नहीं।
    – गार्गी अग्रवाल
  • jindagee
    khushiyon kee mahak se hai banatee jindagee,
    sapanon kee kalam se hai likhanee jindagee .
    kahana hai tujhase bas itana jindagee ,
    har mod par, too sambhalana jindagee .
    jeet aasaanee se mile to kya jindagee ,
    kabhee-kabhee dukh bhee sahana jindagee .
    par aakhir mein to hai hansana jindagee ,
    kaanto ke beech hai rahana jindagee .
    par gulaabon kee tarah hai mahakana jindagee ..
    aakhir mein hai ye kahana jindagee ,
    ki har vakt yoon jiyo jindagee .
    ki agale pal phir mile ya na mile jindagee ..
    – shraddha kaksha – 11 ba
    • dua
    daulat kam kamaee hai
    magar ijjat aur pyaar har din kamaata hoon
    aisho aaraam kee jindagee to nahin hai meree
    magar jitana hai use sabake saath baat ke khaata hoon.
    jab mahangaee dekhata hoon, to malaal hota hai kam kamaane ka.
    jab beeemaanee dekhata hoon,
    to bura lagata hai eemaanadaaron ka haal dekhakar.
    magar phir jab main apanee thaalee mein se kisee
    gareeb ko khilaata hoon to pata chalata hai.
    ki mujhase ameer to koee hain hee nahin mere paas to itane logon kee duaen hai.
    paison se har cheej khareedee ja sakatee hai.
    magar khushee pyaar or sachche dil se nikalee dua nahin.

 

SHARE
Previous articleमोबाइल फ़ोन पर निबन्ध – Essay on Mobile Phone in Hindi Language
Next articleमेरा बचपन कविता – Short Poem On Bachpan in Hindi
Hi friends, I am Abhishek Mishra ( Abhi ), SuvicharHindi.Com का Founder और Administrator . SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी हमारे Website में मिले और हिंदी Writers को एक Global मंच मिले. अगर आपमें लिखने की क्षमता है, तो आप अपनी मौलिक और अप्रकाशित Article, Kavita, Shayari या Vichar अपने Photo के साथ हमें 25suvicharhindi@gmail.com पर Email कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here