Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

कोहबर शायरी – Kohbar Shayari in Hindi vivah kohbar shayari

कोहबर शायरी – Kohbar Shayari in Hindi font vivah kohbar ke liye shayari
कोहबर शायरी - Kohbar Shayari in Hindi vivah kohbar shayari

Kohbar Shayari in Hindi font vivah kohbar ke liye shayari

  • कोहबर वह स्थान होता है, जहाँ शादी के बाद वर-वधु को विवाह मंडप से उठने के बाद बैठाकर पूजा कर विवाह की आखिरी रस्म निभाई जाती है. कोहबर में अच्छी कलाकृति बनाई जाती है. वर-वधु के लिए कुछ पंक्तियाँ लिखी जाती है.
  • दो साथी आज मिल रहे हैं, फिर न कभी बिछड़ने के लिए
    हाथों में एक-दूजे का हाथ लेकर, नित नये सपने गढ़ने के लिए.
  • आप दोनों की जोड़ी लग रही है राम-सीता जैसी प्यारी
    आप हमेशा मुस्कुराएँ, अब तो यही है तमन्ना हमारी.

  • इन दोनों के दिल में बेचैनी भी है और करार भी है
    थोड़ी घबड़ाहट है चेहरे पर, तो दिल में थोड़ा प्यार भी है.
  • भगवान आप दोनों की जोड़ी यूँ हीं बनाए रखे

    आपके जीवन को खुशियों से सजाये रखे

    आपके जीवन में कभी न उलझनें आएँ

    भगवान आप पर प्यार और आशीर्वाद बनाए रखे.

  • सात फेरों ने आप दोनों को हमेशा के लिए अपना बनाया है
    सगे-सम्बन्धियों ने आप पर अपार स्नेह बरसाया है
    मानो आपके जीवन को खुद ईश्वर ने अपने हाथों से सजाया है.
  • चारों ओर फ़ैल रही है इश्क की खुशबु थोड़ी-थोड़ी
    ना देखी है मैंने कहीं भी इतनी प्यारी जोड़ी
  • जिंदगी और अच्छी लगती है जब खुशियों की बौछार होती है
    मैं उसकी हूँ, वो मेरा है यही सोचकर अब उनसे आँखें चार होती है.

  • बड़े जतन किए तब दोनों ने एक-दूजे को पाया है
    नई दुनिया बसाने का स्वप्न आँखों में सजाया है.
  • अब न कोई दूरी न कोई मजबूरी है
    अब तो बस कसमें हैं जन्मों के
    और हर पल दोनों का साथ होना जरूरी है.
  • दूल्हा-दुल्हन एक-दूजे को पाकर इतरा रहे हैं
    देखो खुशियों के आने से कैसे शरमा रहे हैं.
  • वैसे तो जीवन में कई रिश्ते हैं, पर जीवनसाथी सबसे खास होता है
    यूँ तो हर रिश्ते का साथ जीवन में खास होता है,
    लेकिन जीवनसाथी के साथ का अलग हीं एहसास होता है.
  • कोहबर शायरी – Kohbar Shayari in Hindi font vivah kohbar ke liye shayari

.

About Abhi @ SuvicharHindi.Com ( SEO, Tips, Thoughts, Shayari )

Hi, Friends मैं Abhi, SuvicharHindi.Com का Founder और Owner हूँ. हमारा उद्देश्य है Visitors के लिए विभन्न प्रकार की जानकारियाँ उपलब्ध करवाना. अगर आप भी लिखने का शौक रखते हैं, तो 25suvicharhindi@gmail.com पर अपनी मौलिक रचनाएँ जरुर भेजें.

One comment

  1. सुखमंगल सिंह

    “कोहबर ”
    कोहबर आनन्द-आनन्द सारी दुनियाँ जी,
    पापा के चरन छू के चढ़ि जा बाबू डोली जी।
    मम्मी के आशिस लेकर चढ़ि जा बाबू डिली जी।
    कोहबर आनन्द-आनन्द सारी दुनियाँ जी॥
    चाचा केच रन छू के चढ़ि जा बाबू डोली जी।
    चाची के चरन छू के चढ़ि जा बाबू डोली जी।
    कोहबर आनन्द-आनन्द सारी दुनियाँ जी॥
    बुआ के आशिस लेकर चढ़ि जा बाबू डिली जी।
    कोहबर आनन्द-आनन्द सारी दुनियाँ जी॥
    शव्दार्थ:-आशिस-आसीस,आशीर्वाद,दुआ। कोहबर- वह स्थान या घर जहाँ विवाह के समय कुल देवता स्थापित किए जाते हैं।
    डोली-एक प्रकार की सवारी जिसे कहार कंधों पर लेकर चलते कैं।
    नोट-शादी हेतु दूल्हा घर से निकलते समय का गीत।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!