Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

दुर्गा कवच हिन्दी में – Durga Kavach in Hindi Text – Durga Kavach in Hindi :

Tags : durga kavach in hindi durga kavach devi kavach shri durga kavach devi kavach in hindi durga saptashati kavach in hindi kavach maa durga kavach durga kavach in hindi text panchmukhi kavach durga kavacham in panchmukhi durga kavach in sanskrit baglamukhi kavach durga kavach in hindi text only shri durga kavach in hindi durga chalisa song durga kavach in marathi devi kavach in sanskrit durga saptashati kavach panchmukhi mantra durga mata ka kavach in hindi maa durga kavach in hindi durga kavach in english durga mata kavach durga kavach durga kavach benefits in hindi shree durga kawach deepa durga kavacham mantra durga saptashati in hindi durga saptashati durga saptashati path devi kavacham art of living durga raksha kavach devi kavach devi kavach in durga raksha kavach mantra hindi maa durga mantra durga kavach written in hindi durga kavach by narendra chanchal durga saptashati in sanskrit devi kavach in hindi text kavach mantra in hindi durga kavach benefits durga kavach yantra durga mantra narayan kavach in hindi translation durga kavach in hindi chaman durga devi kavach durga song durga stotra durga kavach path in hindi durga saptashati devi kavach in hindi durga stotram durga kavach mantra durga kavach mantra in hindi jai maa durga ji ke bhajan kavach mata kavach nav durga kavach in hindi durga stuti durga devi kavacham in durga kavaj durga path durga kawach durga raksha kavach in hindi maa durga kavach in hindi text durga stuti in hindi mantra images narayan kavach maa kali durga saptashati kavach in sanskrit maa durga maa durga mantra in hindi kavach pdf durga kavach sanskrit text kavach durga saptashati nazar utarna sri durga kavacham durga kavach path deepa durga kavacham in read durga kavach in hindi durga mata kavach in hindi mantra in hindi durga kavach in durga maa song durga chalisa in hindi durga kavach in marathi text durga chalisa durga saptashloki kali kavach in hindi kavacham song durga saptashati hindi shri durga kavach in sanskrit kali kavach durga kavach chaman lal bhardwaj durga devi kavach in hindi maa kali kavach in hindi devi kavach in sanskrit free durga ashtakam chandi kavacham durga kavach pdf devi raksha kavach art of living devi kavacham kavach in hindi kavach in hindi devi kavacham in english durga kavach anuradha paudwal durga ashtothram kavacham songs maa durga chalisa chandi kavacham durga saptashati devi kavach in marathi nav durga kavach devi kavach in translation durga kavach lyrics durga sahasranamam durga matha songs chamunda devi kavach surya kavach durga kawach in hindi shree kali kavach in hindi durga kavach in hindi by anuradha paudwal durga kavach paath durga maa ki aarti devi kavacham benefits durga kavach audio chandi kavacham in hindi sudarshan kavach nav durga yantra durga kavach stotra durga kavach by chaman lal bhardwaj devi kavach mantra durga kavach in shri durga kavach in marathi durga kavacham in pdf durga kavach in sanskrit durga kavach mantra free ram raksha yantra raksha kavach mantra mahakali kavach in hindi baglamukhi kavach in hindi durga saptashati devi kavach in sanskrit durga kavach video chandi kavacham panchmukhi kavach in hindi durga mantra in hindi devi kavacham in durga kavach in english translation nav durga kavach in sanskrit sri durga devi kavacham panchmukhi kavach in hindi pdf durga kavach in hindi pdf durga kavach by chanchal saptashati kavach devi kavach in sanskrit audio devi kavach in hindi devi kavach in durga kavach by chaman shri durga kavach sanskrit free maa durga yantra maa durga wallpaper 3d ambe maa wallpaper durga kavach free kavach in hindi durga kavach in sanskrit pdf panchmukhi kavach mantra sri devi kavacham sri durga devi kavacham in shree durga kavach kavach in english games durga kavach lyrics in hindi durga devi stotram durga aarti durga kavach book panchmukhi kavach stotra durga devotional songs kali kavach in hindi text narsingh kavach devi kavach audio durga ji bhajan mother durga mantra devi kavacham pdf sri durga kavacham in devyah kavacham durga path in hindi durga ringtone devi kavach anuradha paudwal durgakavacham durga kavach paath vidhi durga kavach in sanskrit free kavach text raksha kavach devi kavacham lyrics durga kavach kavach in hindi durga chalisa audio durga kavach in hindi free kali mata chalisa narsingh kavach in hindi maa durga stuti in hindi god durga songs durga puja durga saptashati in hindi by chaman durga kavach lyrics in sanskrit durga kavacham in lyrics durga kavach lyrics in english devi kavach in hindi pdf durga saptshati kawach in hindi pdf durga devi kavacham shri durga kawach chamunda kavach durga kavach in hindi pdf kavach in hindi pdf durga devi kavacham in pdf durga kavach durga kawach in hindi pdf raksha kavach in hindi durga kavach youtube durga kavacham in script durga kavach in marathi pdf raksha kavach mantra in hindi durga photo 3d durga devi kavach free baglamukhi kavach in hindi pdf durga kavacham in free kali kavach in hindi pdf durga kawach lyrics maa nav durga kavach durga kavach meaning goddess durga mantra in hindi durga kavach in sanskrit pdf kavach in hindi text durga kavach in hindi pdf free durga kavach by narendra chanchal free shri durga kavach text in hindi live wallpaper kavach in hindi pdf durga music kavach in hindi pdf durga kawach durga kavach in hindi pdf file sri durga kavacham in pdf shri durga kavach in hindi pdf kavach in hindi narayan kavach in hindi in text maa baglamukhi kavach in hindi durga kavach lyrics in english pdf mohini kavach in hindi durga wallpaper narayan kavach in hindi pdf durga kavacham lyrics in pdf panchmukhi kavach in hindi text durga kavach by narendra chanchal free durga kavach in english pdf shree kavach in hindi pdf devi kavacham lyrics in sanskrit shri durga stuti in hindi lyrics kavach in hindi free shri durga kavach free narsingh kavach in hindi pdf chandi kavacham free shri narayan kavach in hindi sai baba raksha kavach in hindi durga kavach in marathi pdf kavach radha kavach in hindi mata ka kavach surya kavach in hindi durga kavach lyrics in hindi pdf ek mukhi kavach in hindi nav durga path hindi pdf durga kawach in hindi text maa durga kavach in hindi pdf durga kavach free anuradha paudwal devi kavach in sanskrit pdf chandi kavach durga kavach with sanskrit lyrics shri durga kavach lyrics durga kavacham in tamil pdf durga kavach in hindi audio free durga saptashati kavach free maa durga hindi durga kavach by narender chanchal ram kavach in hindi vishnu kavach in hindi benefits of durga kavach mantra durga kavach by narendra chanchal with nau deviyon ke naam durga kavach in hindi by anuradha paudwal free durga kavach in sanskrit with meaning chandi kavacham pdf garbha raksha kavach shri durga stuti in hindi text devi kavach song surya kavach in hindi pdf durga saptashati devi kavach mangal kavach in hindi durga kawach durga kavach free shri durga kavach in marathi pdf durga kavach in marathi durga stuti paath in hindi lyrics raksha kavach in hindi durga saptashati kavach pdf maa durga saptashati in hindi durga kawach in hindi kavach in hindi durga kavach narender chanchal devi kavach in hindi free devi kavacham sanskrit pdf durga kavacham in with meaning kavach in hindi pdf durga kavach in sanskrit shri durga kavach pdf durga devi wallpaper devi kavacham lyrics in english durga kavach narendra chanchal lakshmi kavach in hindi pdf maa durga ringtone durga kawach maha kali kavach in hindi durga kawach in hindi lyrics durga kavacham in pdf free durga kavach chaman pdf devi kavach pdf in hindi durga kavacham lyrics in tamil durga kavach in hindi sri durga kavacham lyrics kavacham songs kawach deep durga kavacham in durga kavach ke labh chandi kavacham sanskrit pdf devi kavach with meaning in pdf what is durga kavach devi kavach durga saptashati devi kavach pdf krishna kavacham in hindi durga songs hindi hindi durga saptashati durga kawach hindi durga chaman durga kavach in hindi lyrics benefits of reading durga kavach sri durga kavacham durga kavach pdf sri durga kavacham lyrics in tamil devi kavach lyrics hindi durga kavach video free meaning of durga kavach kavach in hindi pdf durga kavach by narender chanchal free durga kavach audio free devi kavach devi kavach in marathi free free durga kavach narendra chanchal durga kavacham in with lyrics durga kavach narender chanchal narayan kavach in hindi devi kavacham in pdf durga kavach song durga kavach song free durga kavach in hindi durga kavach sanskrit durga kavach free durga saptashati devi kavach deep durga kavacham devi kavach yamuna kavach in hindi durga kavach narendra chanchal anuradha paudwal devi kavach durga kavach by narender chanchal durga kavach song durga devi kavach free maha durga kavacham lyrics durga kavach in sanskrit durga kawach free durga kavach narender chanchal free chandi kavacham lyrics hindi durga mantra durga kawaj devi kavacham durga kavach by anuradha paudwal durga saptashati kavach navdurga kavach lyrics durga kavach hindi durga kavach in hindi free shri durga kavach durga kavach sanskrit durga kavach hindi durga kavach in sanskrit free devya kavacham durga kavach hindi listen durga kavach

Durga Kavach in Hindi Text – दुर्गा कवच हिन्दी में Durga Kavach in Hindi text दुर्गा कवच हिन्दी में

  • दुर्गा कवच

  • ॐ इस श्री चण्डी क्वच के ब्रह्मा ऋषि, अनुष्टुप् छन्द, चामुण्डा देवता, अङ्गन्यास में कही गयी माताएँ बीज, दिग्बन्ध देवता तत्त्व हैं, श्रीजगदम्बा की प्रीति के लिए सप्तशती पाठाङ्गभूत जप में इसका विनियोग किया जाता है।
  • ॐ चण्डिका देवी को नमस्कार है
  • मार्कण्डेय जी ने कहा – पितामह! जो इस संसार में परम गोपनीय तथा मनुष्यों की सब प्रकार से रक्षा करने वाला है और जो अब तक आपने दूसरे किसी के सामने प्रकट नहीं किया हो, ऐसा कोई साधन मुझे बताइये ।। 1 ।।
  • ब्रह्माजी बोले – ब्रह्मन्! ऐसा साधन तो एक देवी का कवच ही है, जो गोपनीय से भी परम गोपनीय, पवित्र तथा सम्पूर्ण प्राणियों का उपकार करनेवाला है। महामुने! उसे श्रवण करो ।। 2 ।।
  • देवी की नौ मूर्तियाँ हैं, जिन्हें ‘नवदुर्गा’ कहते हैं। उनके पृथक्-पृथक् नाम बतलाऐ जाते हैं। प्रथम नाम शैलपुत्री है, दूसरी मूर्तिका नाम ब्रह्मचारिणी है। तीसरा स्वरूप चन्द्रघण्टा के नामसे प्रसिद्ध है। चौथी मूर्ति को कूष्माण्डा कहते हैं। पाँचवीं दुर्गा का नाम स्कन्दमाता है। देवी के छठे रूप को कात्यायनी कहते हैं। सातवाँ कालरात्रि और आठवाँ स्वरूप महागौरी के नाम से प्रसिद्ध है।  नवीं दुर्गा का नाम सिद्धिदात्री है।  ये सब नाम सर्वज्ञ महात्मा वेदभगवान् के द्वारा ही प्रतिपादित हुए हैं ।। 3-5 ।।
  • जो मनुष्य अग्नि में जल रहा हो, रणभूमि में शत्रुओं से घिर गया हो, विषम संकट में फँस गया हो तथा इस प्रकार भय से आतुर होकर जो भगवती दुर्गा की शरण में प्राप्त हुए हों, उनका कभी कोई अमङ्गल नहीं होता। युद्ध समय संकट में पड़ने पर भी उनके ऊपर कोई विपत्ति नहीं दिखाई देती।  उनके शोक, दु:ख और भय की प्राप्ति नहीं होती ।। 6-7 ।।
  • जिन्होंने भक्तिपूर्वक देवी का स्मरण किया है, उनका निश्चय ही अभ्युदय होता है। देवेश्वरि! जो तुम्हारा चिन्तन करते हैं, उनकी तुम नि:सन्देह रक्षा करती हो ।। 8 ।।
  • चामुण्डादेवी प्रेत पर आरूढ़ होती हैं। वाराही भैंसे पर सवारी करती हैं।  ऐन्द्री का वाहन ऐरावत हाथी है।  वैष्णवी देवी गरुड़ पर ही आसन जमाती हैं ।। 9 ।।
  • माहेश्वरी वृषभ पर आरूढ़ होती हैं। कौमारी का मयूर है।  भगवान् विष्णु की प्रियतमा लक्ष्मीदेवी कमल के आसन पर विराजमान हैं अौर हाथों में कमल धारण किये हुए हैं ।। 10 ।।
  • वृषभ पर आरूढ़ ईश्वरी देवी ने श्वेत रूप धारण कर रखा है। ब्राह्मी देवी हंस पर बैठी हुई हैं और सब प्रकार के आभूषणों से विभूिषत हैं ।। 11 ।।
  • इस प्रकार ये सभी माताएँ सब प्रकार की योग शक्तियों से सम्पन्न हैं। इनके सिवा और भी बहुत-सी देवियाँ हैं, जो अनेक प्रकार के आभूषणों की शोभा से युक्त तथा नाना प्रकार के रत्नों से सुशोभित हैं ।। 12 ।।
  • ये सम्पूर्ण देवियाँ क्रोध में भरी हुई हैं और भक्तों की रक्षा के लिए रथ पर बैठी दिखाई देती हैं। ये शङ्ख, चक्र, गदा, शक्ति, हल और मूसल, खेटक और तोमर, परशु तथा पाश, कुन्त औ त्रिशूल एवं उत्तम शार्ङ्गधनुष आदि अस्त्र-शस्त्र अपने हाथ में धारण करती हैं।  दैत्यों के शरीर का नाश करना, भक्तों को अभयदान देना और देवताओं का कल्याण करना – यही उनके शस्त्र-धारण का उद्देश्य है ।।  13-15 ।।
  • [ कवच आरम्भ करने के पहले इस प्रकार प्रार्थना करनी चाहिए ] महान् रौद्ररूप, अत्यन्त घोर पराक्रम, महान् बल और महान् उत्साह वाली देवी! तुम महान् भय का नाश करने वाली हो, तुम्हें नमस्कार है ।। 16 ।।
  • तुम्हारी और देखना भी कठिन है। शत्रुओं का भय बढ़ाने वाली जगदम्बिके! मेरी रक्षा करो।  पूर्व दिशा में ऐन्द्री (इन्द्रशक्ति) मेरी रक्षा करे।  अग्निकोण में अग्निशक्ति, दक्षिण दिशा में वाराही तथा नैर्ऋत्यकोण में खड्गधारिणी मेरी रक्षा करे।  पश्चिम दिशा में वारुणी और वायव्यकोण में मृग पर सवारी करने वाली देवी मेरी रक्षा करे ।। 17-18 ।।
  • उत्तर दिशा में कौमारी और ईशानकोण में शूलधारिणी देवी रक्षा करे। ब्रह्माणि! तुम ऊपर की ओर से मेरी रक्षा करो और वैष्णवी देवी नीचे की ओर से मेरी रक्षा करे ।। 19 ।।

  • इसी प्रकार शव को अपना वाहन बनानेवाली चामुण्डा देवी दसों दिशाओं में मेरी रक्षा करे। जया आगे से और विजया पीछे की ओर से मेरी रक्षा करे ।। 20 ।।
  • वामभाग में अजिता और दक्षिण भाग में अपराजिता रक्षा करे। उद्योतिनी शिखा की रक्षा करे।  उमा मेरे मस्तक पर विराजमान होकर रक्षा करे ।। 21 ।।
  • ललाट में मालाधरी रक्षा करे और यशस्विनी देवी मेरी भौंहों का संरक्षण करे। भौंहों के मध्य भाग में त्रिनेत्रा और नथुनों की यमघण्टा देवी रक्षा करे ।। 22 ।।
  • दोनों नेत्रों के मध्य भाग में शङ्खिनी और कानों में द्वारवासिनी रक्षा करे। कालिकादेवी कपोलों की तथा भगवती शांकरी कानों के मूलभाग की रक्षा करे ।। 23 ।।
  • नासिका में सुगन्धा और ऊपर के ओंठ में चर्चिका देवी रक्षा करे। नीचे के ओंठ में अमृतकला तथा जिह्वा में सरस्वती रक्षा करे ।। 24 ।।

  • कौमारी दाँतों की और चण्डिका कण्ठप्रदेश की रक्षा करे। चित्रघण्टा गले की घाँटी और महामाया तालु में रहकर रक्षा करे ।। 25 ।।
  • कामाक्षी ठोढी की और सर्वमङ्गला मेरी वाणी की रक्षा करे। भद्रकाली ग्रीवा में और धनुर्धरी पृष्ठवंश (मेरुदण्ड) में रहकर रक्षा करे ।। 26 ।।
  • कण्ठ के बाहरी भाग में नीलग्रीवा और कण्ठ की नली में नलकूबरी रक्षा करे। दोनों कंधों में खड्गिनी और मेरी दोनों भुजाओं की वज्रधारिणी रक्षा करे ।। 27 ।।
  • दोनों हाथों में दण्डिनी और उँगलियों में अम्बिका रक्षा करे। शूलेश्वरी नखों की रक्षा करे।  कुलेश्वरी कुक्षि (पेट) में रहकर रक्षा करे ।। 28 ।।
  • महादेवी दोनों स्तनों की और शोकविनाशिनी देवी मन की रक्षा करे। ललिता देवी हृदय में और शूलधारिणी उदर में रहकर रक्षा करे ।। 29 ।।
  • नाभि में कामिनी और गुह्यभाग की गुह्येश्वरी रक्षा करे। पूतना और कामिका लिङ्ग की और महिषवाहिनी गुदा की रक्षा करे ।। 30 ।।
  • भगवती कटि भाग में और विन्ध्यवासिनी घुटनों की रक्षा करे। सम्पूर्ण कामनाओं को देने वाली महाबला देवी दोनों पिण्डलियों की रक्षा करे ।। 31 ।।

  • नारसिंही दोनों घुट्ठियों की और तैजसी देवी दोनों चरणों के पृष्ठभाग की रक्षा करे। श्रीदेवी पैरों की उँगलियों में और तलवासिनी पैरों के तलुओं में रहकर रक्षा करे ।। 32 ।।
  • अपनी दाढों के कारण भयंकर दिखायी देनेवाली दंष्ट्राकराली देवी नखों की और ऊर्ध्वकेशिनी देवी केशों की रक्षा करे। रोमावलियों के छिद्रों में कौबेरी और त्वचा की वागीश्वरी देवी रक्षा करे ।। 33 ।।
  • पार्वती देवी रक्त, मज्जा, वसा, माँस, हड्डी और मेद की रक्षा करे। आँतों की कालरात्रि और पित्त की मुकुटेश्वरी रक्षा करे ।। 34 ।।
  • मूलाधार आदि कमल-कोशों में पद्मावती देवी और कफ में चूड़ामणि देवी स्थित होकर रक्षा करे। नख के तेज की ज्वालामुखी रक्षा करे।  जिसका किसी भी अस्त्र से भेदन नहीं हो सकता, वह अभेद्या देवी शरीर की समस्त संधियों में रहकर रक्षा करे ।। 35 ।।
  • ब्रह्माणी! आप मेरे वीर्य की रक्षा करें। छत्रेश्वरी छाया की तथा धर्मधारिणी देवी मेरे अहंकार, मन और बुद्धि की रक्षा करे ।। 36 ।।
  • हाथ में वज्र धारण करने वाली वज्रहस्ता देवी मेरे प्राण, अपान, व्यान, उदान और समान वायु की रक्षा करे। कल्याण से शोभित होने वाली भगवती कल्याण शोभना मेरे प्राण की रक्षा करे ।। 37 ।।
  • रस, रूप, गन्ध, शब्द और स्पर्श – इन विषयों का अनुभव करते समय योगिनी देवी रक्षा करे तथा सत्त्वगुण, रजोगुण और तमोगुण की रक्षा सदा नारायणी देवी करे ।। 38 ।।

  • वाराही आयु की रक्षा करे। वैष्णवी धर्म की रक्षा करे तथा चक्रिणी (चक्र धारण करने वाली) देवी यश, कीर्ति, लक्ष्मी, धन तथा विद्या की रक्षा करे ।। 39 ।।
  • इन्द्राणि! आप मेरे गोत्र की रक्षा करें। चण्डिके! तुम मेरे पशुओं की रक्षा करो।  महालक्ष्मी पुत्रों की रक्षा करे और भैरवी पत्नी की रक्षा करे ।। 40 ।।
  • मेरे पथ की सुपथा तथा मार्ग की क्षेमकरी रक्षा करे। राजा के दरबार में महालक्ष्मी रक्षा करे तथा सब ओर व्याप्त रहने वाली विजया देवी सम्पूर्ण भयों से मेरी रक्षा करे ।। 41 ।।
  • देवी! जो स्थान कवच में नहीं कहा गया है, अतएव रक्षा से रहित है, वह सब तुम्हारे द्वारा सुरक्षित हो; क्योंकि तुम विजयशालिनी और पापनाशिनी हो ।। 42 ।।
  • यदि अपने शरीर का भला चाहे तो मनुष्य बिना कवच के कहीं एक पग भी न जाय – कवच का पाठ करके ही यात्रा करे। कवच के द्वारा सब ओर से सुरक्षित मनुष्य जहाँ-जहाँ भी जाता है, वहाँ-वहाँ उसे धन-लाभ होता है तथा सम्पूर्ण कामनाओं की सिद्धि करने वाली विजय की प्राप्ति होती है।  वह जिस-जिस अभीष्ट वस्तु का चिन्तन करता है, उस-उसको निश्चय ही प्राप्त कर लेता है।  वह पुरुष इस पृथ्वी पर तुलना रहित महान् ऐश्वर्य का भागी होता है ।। 43-44 ।।
  • कवच से सुरक्षित मनुष्य निर्भय हो जाता है। युद्ध में उसकी पराजय नहीं होती तथा वह तीनों लोकों में पूजनीय होता है ।। 45 ।।
  • देवी का यह कवच देवताओं के लिए भी दुर्लभ है। जो प्रतिदिन नियमपूर्वक तीनों संध्याओं के समय श्रद्धा के साथ इसका पाठ करता है, उसे दैवी कला प्राप्त होती है तथा वह तीनों लोकों में कहीं भी पराजित नहीं होता।  इतना ही नहीं, वह अपमृत्यु रहित हो, सौ से भी अधिक वर्षों तक जीवित रहता है ।। 46-47 ।।

  • मकरी, चेचक और कोढ़ आदि उसकी सम्पूर्ण व्याधियाँ नष्ट हो जाती हैं। कनेर, भाँग, अफीम, धतूरे आदि का स्थावर विष, साँप और बिच्छू आदि के काटने से चढ़ा हुआ जङ्गम विष तथा अहिफेन और तेल के संयोग आदि से बनने वाला कृत्रिम विष – ये सभी प्रकार के विष दूर हो जाते हैं, उनका कोई असर नहीं होता ।। 48 ।।
  • इस पृथ्वी पर मारण-मोहन आदि जितने आभिचारिक प्रयोग होते हैं तथा इस प्रकार के मन्त्र-यन्त्र होते हैं, वे सब इस कवच को हृदय में धारण कर लेने पर उस मनुष्य को देखते ही नष्ट हो जाते हैं। ये ही नहीं, पृथ्वी पर विचरने वाले ग्राम देवता, आकाशचारी देव विशेष, जल के सम्बन्ध से प्रकट होने वाले गण, उपदेश मात्र से सिद्ध होने वाले निम्नकोटि के देवता, अपने जन्म से साथ प्रकट होने वाले देवता, कुल देवता, माला (कण्ठमाला आदि), डाकिनी, शाकिनी, अन्तरिक्ष में विचरनेवाली अत्यन्त बलवती भयानक डाकिनियाँ, ग्रह, भूत, पिशाच, यक्ष, गन्धर्व, राक्षस, ब्रह्मराक्षस, बेताल, कूष्माण्ड और भैरव आदि अनिष्टकारक देवता भी हृदय में कवच धारण किए रहने पर उस मनुष्य को देखते ही भाग जाते हैं।  कवचधारी पुरुष को राजा से सम्मान वृद्धि प्राप्ति होती है।  यह कवच मनुष्य के तेज की वृद्धि करने वाला और उत्तम है ।। 49-52 ।।
  • कवच का पाठ करने वाला पुरुष अपनी कीर्ति से विभूषित भूतल पर अपने सुयश से साथ-साथ वृद्धि को प्राप्त होता है। जो पहले कवच का पाठ करके उसके बाद सप्तशती चण्डी का पाठ करता है, उसकी जब तक वन, पर्वत और काननों सहित यह पृथ्वी टिकी रहती है, तब तक यहाँ पुत्र-पौत्र आदि संतान परम्परा बनी रहती है ।। 53-54 ।।
  • फिर देह का अन्त होने पर वह पुरुष भगवती महामाया के प्रसाद से नित्य परमपद को प्राप्त होता है, जो देवतोओं के लिए भी दुर्लभ है ।। 55 ।।
  • वह सुन्दर दिव्य रूप धारण करता और कल्याण शिव के साथ आनन्द का भागी होता है ।। 56 ।।
  • ।। इति देव्या: कवचं सम्पूर्णम् ।।

.

About Abhi @ SuvicharHindi.Com ( SEO, Tips, Thoughts, Shayari )

Hi, Friends मैं Abhi, SuvicharHindi.Com का Founder और Owner हूँ. हमारा उद्देश्य है Visitors के लिए विभन्न प्रकार की जानकारियाँ उपलब्ध करवाना. अगर आप भी लिखने का शौक रखते हैं, तो 25suvicharhindi@gmail.com पर अपनी मौलिक रचनाएँ जरुर भेजें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!