Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Latest Posts - इन्हें भी जरुर पढ़ें ➜

संस्कृत – हिंदी सूक्तियाँ अर्थ सहित || Suktiyan in Sanskrit With Meaning in Hindi :

संस्कृत – हिंदी सूक्तियाँ अर्थ सहित || Suktiyan in Sanskrit With Meaning in Hindi
संस्कृत - हिंदी सूक्तियाँ अर्थ सहित || Suktiyan in Sanskrit With Meaning in Hindi

  • Sharir Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi
  • कायः कस्य न वल्लभः ।
    अपना शरीर किसको प्रिय नहीं है ?
  • शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम् ।
    शरीर धर्म पालन का पहला साधन है ।
  • त्रयः उपस्तम्भाः ।
    आहारः स्वप्नो ब्रह्मचर्यं च सति ।
    शरीररुपी मकान को धारण करनेवाले तीन स्तंभ हैं; आहार, निद्रा और ब्रह्मचर्य (गृहस्थाश्रम में सम्यक् कामभोग) ।
  • सर्वार्थसम्भवो देहः ।
    देह् सभी अर्थ की प्राप्र्ति का साधन है ।
  • Vridhon Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi
  • श्रोतव्यं खलु वृध्दानामिति शास्त्रनिदर्शनम् ।
    वृद्धों की बात सुननी चाहिए एसा शास्त्रों का कथन है ।
  • वृध्दा न ते ये न वदन्ति धर्मम् ।
    जो धर्म की बात नहीं करते वे वृद्ध नहीं हैं
  • न तेनवृध्दो भवति येनाऽस्य पलितं शिरः ।
    बाल श्वेत होने से हि मानव वृद्ध नहीं कहलाता ।
  • Business par Sanskrit Suktiyan With Meaning

  • सत्यानृतं तु वाणिज्यम् ।
    सच और जूठ एसे दो प्रकार के वाणिज्य हैं ।
  • वाणिज्ये वसते लक्ष्मीः ।
    वाणिज्य में लक्ष्मी निवास करती है ।
  • Vaani Par Sanskrit Suktiyan With Meaning
  • अभ्यावहति कल्याणं विविधं वाक् सुभाषिता ।
    अच्छी तरह बोली गई वाणी अलग अलग प्रकार से मानव का कल्याण करती है ।
  • वाक्शल्यस्तु न निर्हर्तु शक्यो ह्रदिशयो हि सः ।
    दुर्वचन रुपी बाण को बाहर नहीं निकाल सकते क्यों कि वह ह्रदय में घुस गया होता है ।
  • वाण्येका समलंकरोति पुरुषं या संस्कृता धार्यते ।
    संस्कृत अर्थात् संस्कारयुक्त वाणी हि मानव को सुशोभित करती है ।
  • वाक्संयमी हि सुदुसःकरतमो मतः ।
    वाणी पर संयम रखना अत्यंत कठिन है ।
  • Vastra – Sanskrit Suktiyan With Meaning
  • कुवस्त्रता शुभ्रतया विराजते ।
    खराब वस्त्र भी स्वच्छ हो तो अच्छा दिखता है ।
  • जिता सभा वस्त्रवता ।
    अच्छे वस्त्र पहननेवाले सभा जित लेते हैं (उन्हें सभा में मानपूर्वक बिठाया जाता है) ।
  • वस्त्रेण किं स्यादिति नैव वाच्यम् ।
    वस्त्रं सभायामुपकारहेतुः ॥
    अच्छे या बुरे वस्त्र से क्या फ़र्क पडता है एसा न बोलो, क्योंकि सभा में तो वस्त्र बहुत उपयोगी बनता है !
  • Lalach Par Sanskrit Suktiyan With Meaning
  • क्लिश्यन्ते लोभमोहिताः ।
    लोभ की वजह से मोहित हुए हैं वे दुःखी होते हैं ।
  • लोभः प्रज्ञानमाहन्ति ।
    लोभ विवेक का नाश करता है ।
  • लोभमूलानि पापानि ।
    सभी पाप का मूल लोभ है ।
  • लोभात् प्रमादात् विश्रम्भात् त्रिभिर्नाशो भवेन्नृणाम् ।
    लोभ, प्रमाद और विश्र्वास – इन तीन कारणों से मनुष्य का नाश होता है ।
  • लोभ
    लोभं हित्वा सुखी भलेत् ।
    लोभका त्याग करने से मानवी सुखी होता है ।
  • अन्तो नास्ति पिपासायाः ।
    तृष्णा का अन्त नहीं है ।
  • Rup Par Sanskrit Suktiyan With Meaning – slokas on Rup

  • रूपेण किं गुणपराक्रमवर्जितेन ।
    जिस रूप में गुण या पराक्रम न हो उस रूप का क्या उपयोग ?
  • मृजया रक्ष्यते रूपम् ।
    स्वच्छता से रूप की रक्षा होती है
  • कुरूपता शीलयुता विराजते ।
    कुरुप व्यक्ति भी शीलवान हो तो शोभारुप बनती है
  • तद् रूपं यत्र गुणाः ।
    जिस रुप में गुण है वही उत्तम रुप है ।
  • Ruchi Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi
  • भिन्नरूचि र्हि लोकः ।
    मानव अलग अलग रूचि के होते हैं ।
  • Rikt Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi
  • रिक्तः सर्वो भवति हि लघुः पूर्णता गौरवाय ।
    चीज खाली होने से हल्की बन जाती है; गौरव तो पूर्णता से हि मलता है ।
  • Raja / Leader Par Sanskrit Suktiyan With Meaning
  • लोकरझ्जनमेवात्र राज्ञां धर्मः सनातनः ।
    प्रजा को सुखी रखना यही राजा का सनातन धर्म है ।
  • राजा कालस्य कारणम् ।
    राजा काल का कारण है ।
  • Yogyta Par Sanskrit Suktiyan With Meaning

  • श्रध्दा ज्ञानं ददाति ।
    नम्रता मानं ददाति ।
    (किन्तु) योग्यता स्थानं ददाति ।
    श्रद्धा ज्ञान देती है, नम्रता मान देती है और योग्यता स्थान देती है ।
  • Yachak Pe Sanskrit Suktiyan With Meaning – Rin Par Sukti
  • तृणाल्लघुतरं तूलं तूलादपि च याचकः ।
    तिन्के से रुई हलका है, और याचक रुई से भी हलका है ।
  • लुब्धानां याचको रिपुः ।
    लोभी मानव को याचक शत्रु जैसा लगता है ।
  • याचको याचकं दृष्टा श्र्वानवद् घुर्घुरायते ।
    याचक को देखकर याचक, कुत्ते की तरह घुर्राता है ।
  • Yash Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi
  • यशोवधः प्राणवधात् गरीयान् ।
    यशोवध प्राणवध से भी बडा है ।
  • यशोधनानां हि यशो गरीयः ।
    यशरूपी धनवाले को यश हि सबसे महान वस्तु है ।
  • Moun Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi – Slokas on Silence
  • वरं मौनं कार्यं न च वचनमुक्तं यदनृतम् ।
    असत्य वचन बोलने से मौन धारण करना अच्छा है ।
  • मौनिनः कलहो नास्ति ।
    मौनी मानव का किसी से भी कलह नहीं होता ।
  • मौनं सर्वार्थसाधनम् ।
    मौन यह सर्व कार्य का साधक है ।
  • विभूषणं मौनमपण्डितानाम् ।
    मूर्ख लोगों का मौन आभूषण है ।
  • मौनं सम्मतिलक्षणम् ।
    मौन सम्मति का लक्षण है ।
  • Shastra Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi
  • सर्वस्य लोचनं शास्त्रम् ।
    शास्त्र सबकी आँख है ।
  • Swabhaw Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi
  • अतीत्य हि गुणान् सर्वान् स्वभावो मूर्ध्नि वर्तते ।
    सब गुण के उस पार जानेवाला “स्वभाव” हि श्रेष्ठ है (अर्थात् गुण सहज हो जाना चाहिए) ।
  • न खलु वयः तेजसो हेतुः ।
    वय तेजस्विता का कारण नहीं है ।
  • महीयांसः प्रकृत्या मितभाषिणः ।
    बडे लोग स्वभाव से हि मितभाषी होते हैं ।
  • Subhashit Par Sanskrit Suktiyan With Meaning – Slokas

  • नूनं सुभाषितरसोऽन्यरसातिशायी ।
    सचमुच ! सुभाषित रस बाकी सब रस से बढकर है ।
  • युक्तियुक्तमुपादेयं वचनं बालकादपि ।
    युक्तियुक्त वचन बालक के पास से भी ग्रहण करना चाहिए ।
  • पृथिव्यां त्रीणि रत्नानि जलमन्नं सुभाषितम् ।
    इस पृथ्वी पर तीन रत्न हैं; जल, अन्न और सुभाषित ।
  • Saksharta Par Sanskrit Suktiyan With Meaning

  • साक्षरा विपरीताश्र्चेत् राक्षसा एव केवलम् ।
    साक्षर अगर विपरीत बने तो राक्षस बनता है ।
  • Sheel Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi – slokas on politeness
  • कुरूपता शीलतया विराजते ।
    कुरूप व्यक्ति भी शीलवान हो तो सुंदर लगती है ।
  • कुलं शीलेन रक्ष्यते ।
    शील से कुल की रक्षा होती है
  • शीलं भूषयते कुलम् ।
    शील कुल को विभूषित करता है
  • Vakta Par Sukti
  • किं करिष्यन्ति वक्तारो श्रोता यत्र न बुध्द्यते ।
    जहाँ श्रोता समजदार नहीं है वहाँ वक्ता (भाषण देकर) भी क्या करेगा ?
  • अप्रियस्य च पथ्यस्य वक्ता श्रोता च दुर्लभः ।
    अप्रिय हितकर वचन बोलनेवाला और सुननेवाला दुर्लभ है
  • Mitra Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi – Slokas on Friend
  • मृजया रक्ष्यते रूपम् ।
    शृंगार से रुप की रक्षा होती है ।
  • सर्वे मित्राणि समृध्दिकाले ।
    समृद्धि काल में सब मित्र बनते हैं ।
  • आपदि मित्र परीक्षा ।
    आपत्ति में मित्र की परीक्षा होती है ।
  • Mata Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi – Slokas on Mother
  • न मातुः परदैवतम् ।
    माँ से बढकर कोई देव नहीं है
  • कुपुत्रो जायेत क्वचिदपि कुमाता न भवति ।
    पुत्र कुपुत्र होता है लेकिन माता कभी कुमाता नहीं होती ।
  • गुरुणामेव सर्वेषां माता गुरुतरा स्मृता ।
    सब गुरु में माता को सर्वश्रेष्ठ गुरु माना गया है
  • Man Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi

  • मनसि व्याकुले चक्षुः पश्यन्नपि न पश्यति ।
    मन व्याकुल हो तब आँख देखने के बावजूद देख नहीं सकती ।
  • मनः शीघ्रतरं बातात् ।
    मन वायु से भी अधिक गतिशील है
  • .मन एव मनुष्याणां कारणं बन्धमोक्षयोः ।
    मन हि मानव के बंधन और मोक्ष का कारण है ।
  • Bhojan Par Sanskrit Suktiyan With Meaning in Hindi – Slokas on Food

  • भोजनस्यादरो रसः ।
    भोजन का रस “आदर” है ।
  • विना गोरसं को रसो भोजनानाम् ।
    बिना गोरस भोजन का स्वाद कहाँ ?
  • कुभोज्येन दिनं नष्टम् ।
    बुरे भोजन से पूरा दिन बिगडता है ।
  • अजीर्णे भोजनं विषम् ।
    अपाचन हुआ हो तब भोजन विष समान है ।
  • वपुराख्याति भोजनम् ।
    मानव कैसा भोजन लेता है उसका ध्यान उसके शरीर पर से आता है ।
  • कदन्नता चोष्णतया विराजते ।
    खराब (बुरा) अन्न भी गर्म हो तब अच्छा लगता है ।
  • Noukar Par Sanskrit Suktiyan With Meaning – Slokas on Servents
  • स्वस्वामिना बलवता भृत्यो भवति गर्वितः ।
    जिस भृत्य का स्वामी बलवान है वह भृत्य गर्विष्ट बनता है ।
  • शुचिर्दक्षोऽनुरक्तश्र्च भृत्यः खलु सुदुर्लभः ।
    इमानदार, दक्ष और अनुरागी भृत्य (सेवक) दुर्लभ होते हैं ।
  • Bharya Patni Wife Par Suktiyan – Slokas

  • भार्या मित्रं गृहेषु च ।
    गृहस्थ के लिए उसकी पत्नी उसका मित्र है ।
  • भार्या दैवकृतः सखा ।
    भार्या दैव से किया हुआ साथी है ।
  • नास्ति भार्यासमं किज्चिन्नरस्यार्तस्य भेषजम् ।
    आर्त (दुःखी) मानव के लिए भार्या समान कोई ओसड नहीं है ।
  • नास्ति भार्यासमो बन्धु नास्ति भार्यासमा गतिः ।
    भार्या समान कोई बन्धु नहीं है, भार्या समान कोई गति नहीं है ।
  • Bhagya Par Suktiyan – Slokas on Luck

  • चक्रारपंक्तिरिव गच्छति भाग्यपंक्तिः ।
    चक्र के आरे की तरह भाग्यकी पंक्ति उपर-नीचे हो सकती है
  • यद् धात्रा लिखितं ललाटफ़लके तन्मार्जितुं कः क्षमः ।
    विधाता ने जो ललाट पर लिखा है उसे कौन मिथ्या कर सकता है ?
  • भाग्यं फ़लति सर्वत्र न विद्या न च पौरुषम् ।
    भाग्य हि फ़ल देता है, विद्या या पौरुष नहीं ।
  • चराति चरतो भगः ।
    चलेनेवाले का भाग्य चलता है ।
  • Future Par Suktiyan
  • सहायास्तादृशा एव यादृशी भवितव्यता ।
    जैसी भवितव्यता हो एसे हि सहायक मिल जाते हैं
  • यदभावि न तदभावी भावि चेन्न तदन्यथा ।
    जो नहीं होना है वो नहीं होगा, जो होना है उसे कोई टाल नहीं सकता
  • Bhay Par Suktiyan
  • भये सर्वे हि बिभ्यति ।
    भय का कारण उपस्थिति हो तब सब भयभीत होते हैं ।
  • द्वितीयाद्वै भयं भवति ।
    दूसरा हो वहाँ भय उत्पन्न होता है ।
  • न बन्धुमध्ये धनहीनजीवनम् ।
    बन्धुओं के बीच धनहीन जीवन अच्छा नहीं ।
  • Strength Par Sukti

  • अहो दुरन्ता बलवद्विरोधिता ।
    बलवान के साथ विरोध करनेका परिणाम दुःखदायी होता है ।
  • बलवन्तो हि अनियमाः नियमा दुर्बलीयसाम् ।
    बलवान को कोई नियम नहीं होते, नियम तो दुर्बल को होते हैं ।
  • प्रयोजनमनुद्रिश्य न मन्दोऽपि प्रवर्तते ।
    मूढ मानव भी बिना प्रयोजन कोई काम नहीं करता ।
  • स्वभावो दुरतिक्रमः ।
    स्वभाव बदलना मुश्किल है ।
  • Prithvi Earth Par Suktiyan

  • बह्वाश्र्चर्या हि मेदनी ।
    पृथ्वी अनेक आश्र्चर्यों से भरी हुई है ।
  • वीरभोग्या वसुन्धरा ।
    पृथ्वी का उपभोग वीर पुरुष हि कर सकते है ।
  • बहुरत्ना वसुन्धरा ।
    पृथ्वी काफ़ी रत्नों से भरी हुई है ।
  • अयोग्यः पुरुषः नास्ति योजकस्तत्र दुर्लभः ।
    कोई भी पुरुष अयोग्य नहीं, पर उसे योग्य काम में जोडनेवाला पुरुष दुर्लभ है
  • Pita Father Par Sukti

  • ऋणकर्ता पिता शत्रुः ।
    ऋण करनेवाला पिता शत्रु है
  • पितरि प्रीतिमापन्ने प्रीयन्ते सर्वदेवताः ।
    पिता प्रसन्न हो तो सब देव प्रसन्न होते हैं
  • पितु र्हि वचनं कुर्वन् न कश्र्चिन्नाम हीयते ।
    पिता के वचन का पालन करनेवाला दीन-हीन नहीं होता ।
  • पात्रत्वाद् धनमाप्नोति ।
    पात्रता होने से इन्सान धन प्राप्त करता है ।
  • 15 संस्कृत श्लोक अर्थ सहित Sanskrit Slokas with meaning in hindi subhashitani

Read Also - इन्हें भी पढ़ें

About SuvicharHindi.Com ( Best Online Hindi Blog Website ) earn knowledge & share it on social media seo service

server hosting seo gmail affiliate domain marketing startup insurance seo services DISEASES Children Health Men's Health Women's Health Cancer Heart Health Diabetes Other Diseases Miscellaneous DIET & FITNESS Weight Management Healthy Diet Exercise Fitness Yoga Alternative Therapies Mind And Body Ayurveda Home Remedies GROOMING Fashion And Beauty Hair Care Skin Care PREGNANCY & PARENTING New Born Care Parenting Tips RELATIONSHIPS Marriage Dating HEALTH EXPERTS Hi, friends, SuvicharHindi.Com की कोशिश है कि हिंदी पाठकों को उनकी पसंद की हर जानकारी SuvicharHindi.Com में मिले. SuvicharHindi.com में आपको Hindi shayari, Hindi Ghazal, Long & Short Hindi Slogans, Hindi Posters, Hindi Quotes with images wallpapers || Hindi Thoughts || Hindi Suvichar, Hindi & English Status, Hindi MSG Messages 140 words text, Hindi wishes, Best Hindi Tips & Tricks, Hindi Dadi maa ke Gharelu Nuskhe, Hindi Biography jeevan parichay jivani, Cute Hindi Poems poetry || Awesome Kavita, Hindi essay nibandh, Hindi Geet Lyrics, Hindi 2 sad / happy / romantic / liners / boyfriend / girlfriend gf / bf for facebook ( fb ) & whatsapp, useful 1 one line rs मिलेंगे. हमारे Website में दी गई चिकित्सा सम्बन्धित जानकारियाँ / Upay / Tarike / Nuskhe केवल जानकारी के लिए है, इनका उपयोग करने से पहले निकट के किसी Doctor से सलाह जरुर लें.
Previous रिलेशनशिप पर 19 कोट्स || Relationship Quotes in Hindi with images shayaris :
Next खूबसूरत आँखों पर शायरी 2 Line Shayari On Eyes in Hindi Aankhon pe shayari :

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!